Thursday, 15 October 2015

ओ शेरों वाली अंबे, आँचल में तू छिपा ले आँखो के बहते आँसू, अब बन गये हैं नाले - O Sherowali Ambe, Aanchal Mein Tu Chipa Le Aankhon Ke Behte Aansoo, Ab Ban Gaye Hai Naale

ओ शेरों वाली अंबे, आँचल में तू छिपा ले
आँखो के बहते आँसू, अब बन गये हैं नाले
ओ शेरों वाली अंबे...

ये जीवन जो तूने दिन्हा, एहसान मुझ पे किन्हा
ये जिंदगी दुखों की, किसके करूँ हवाले
ओ शेरों वाली अंबे

तेरे दर के हम भिखारी, सुनले ओ चक्रधारी
मेरी डूबती है नैया, आकर इसे बचाले
ओ शेरों वाली अंबे

रो रो मेरी मैया, तुझसे बिछड़ न जाउँ
इससे अच्छा है, मेरी जिंदगी उठा ले
ओ शेरों वाली अंबे

No comments:

Post a Comment