Tuesday, 6 October 2015

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन - deva ho deva ganapati deva tumase badhakar kaun

गणपति बाप्पा मोरया, मंगल मूर्ती मोरया
ganapati bappa morayaa, mangal moorti moraya

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन
स्वामी तुमसे बढ़कर कौन
और तुम्हारे भक्तजनों में हमसे बढ़कर कौन
हमसे बढ़कर कौन

deva ho deva ganapati deva tumase badhakar kaun
swaami tumse badhakar kaun
aur tumhaare bhaktajanon mein hamse badhakar kaun
hamse badhakar kaun

अद्भुत रूप ये काय भारी महिमा बड़ी है दर्शन की
प्रभु महिमा बड़ी है दर्शन की
बिन मांगे पूरी हो जाए जो भी इच्छा हो मन की
प्रभु जो भी इच्छा हो मन की

adbhut roop ye kaaya bhaari mahima badi hai darshan ki
prabhu mahima badi hai darshan ki
bin maange poori ho jaaye jo bhi ichchha ho man ki
prabhu jo bhi ichchha ho man ki

भक्तों की इस भीड़ में ऐसे बगुला भगत भी मिलते हैं
हाँ बगुला भगत भी मिलते हैं
भेस बदल कर के भक्तों का जो भगवान को छलते हैं
अरे जो भगवान को छलते हैं

bhakton ki is bheed mein aise bagula bhagat bhi milate hain
haan bagula bhagat bhi milate hain
bhes badal kar ke bhakton ka jo bhagawaan ko chhalte hain
are jo bhagawaan ko chhalte hain

छोटी सी आशा लाया हूँ छोटे से मन में दाता
इस छोटे से मन में दाता
माँगने सब आते हैं पहले सच्चा भक्त ही है पाता
सच्चा भक्त ही है पाता

chhoti si aasha laaya hoon chhote se man mein daata
is chhote se man mein daata
maangane sab aate hain pahale sachcha bhakt hi hai paata
sachcha bhakt hi hai paata

एक डाल के फूलों का भी अलग अलग है भाग्य रहा
प्रभु अलग अलग है भाग्य रहा
दिल में रखना दर उसका मत भूल विधाता जाग रहा
मत भूल विधाता जाग रहा

ek daal ke phoolon ka bhi alag alag hai bhaagy raha
prabhu alag alag hai bhaagy raha
dil mein rakhana dar usaka mat bhool vidhaata jaag raha
mat bhool vidhaata jaag raha

No comments:

Post a Comment