Saturday, 3 January 2015

मैया जग दाता दी, कह के जय माता दी, तुरिया जावीं देखी पैंडै तो ना घबरावीं।

मैया जग दाता दी, कह के जय माता दी,
तुरिया जावीं देखी पैंडै तो ना घबरावीं।

पहला दिल अपना साफ बनाले, फिर मैया नू अरज सूना लै।
मेरी शक्ति वदा, मैनू चरना ना ला, कहंदा जावीं, देखी पैंडै तो ना घबरावीं॥

औखी घाटी ते पैंडा अवल्डा, ओहदी श्रद्धा दा फड लै तू पलड़ा।
साथी रल जाणगे, दुखड़े टल जानगे, भेतां गावीं, देखी पैंडै तो ना घबरावीं॥

तेरा हीरा जनम अनमोला, मिलना मुड मुड़ ना मानुष दा चोला।
धोखा ना खा लवीं, दाग ना ला लवीं, बचदा जावीं, देखी पैंडै तो ना घबरावीं॥

पहला दर्शन है कौल कण्डोली, दूजी देवां ने भर ली है झोली।
आध्कवारी नू जगत महतारी नू सर झुकावीं, देखी पैंडै तो ना घबरावीं॥

ओहदे नाम दा लै के सहारा, लंग जावेंगा पर्वत सारा।
देखी सुन्दर गुफा, ‘चमन’ जय जय बुला, दर्शन पावीं, देखी पैंडै तो ना घबरावीं॥

No comments:

Post a Comment