Thursday, 11 April 2013

तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ - Tere Para Naal Udi Jande Maa


तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ
तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ
नी नहीते सानू कौन जाणदा, कौन जाणदा, कौन जाणदा
तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ ...

उंगली जै फढी मेरी रस्ते मेनू मिल गये
बंजर जमीन विच्च फूल दाती खिल गये
जद दी तु मेरी ते मै दाती तेरा हो गया
दुनीया दा हर सुख दाती मेरा हो गया
तुस्सी फढ लय्यी डिग्गदे दी बाँ
हो,  नहीते सानू कौन जाणदा, कौन जाणदा, कौन जाणदा
तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ...

होके मैं दीवाना तेरी महिमा जे गान्दा ना
मैंवि ते बेनाम होन्दा नाम कित्ये पान्दा ना
माँ-माँ कह के जद वि पुकारया
तुस्सी वि माँ बेटा कह के मेनू हे दुलारया (या बेटी)
तुसाँ दित्ती मेनू चरणा विच्च थाँ
हो, नहीते सानू कौन जाणदा,कौन जाणदा ,कौन जाणदा
तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ ...

नैना विच बसाया जद तेनू मेहराँवाली माँ
अँख दा तु तारा जाणे मेनू शेरांवाली माँ
प्यार तेनू कर प्यार सबणा तो पा लया
हो तेनू अपनाया जग मेनू अपना लया
तुसाँ कदी वि न कित्ती मेनू ना
हो, नहीते सानू कौन जाणदा, कौन जाणदा, कौन जाणदा
तेरे परँ नाल उड जाँदे माँ ...

No comments:

Post a Comment