Monday, 15 April 2013

शेर पे सवार होक आजा शेरा वालिये - Sher Pe Sawaar Hoke Aaja Sherawaaliye



शेर पे सवार होक आजा शेरा वालिये
शेरा वालिये माँ ज्योता वालिये

ज्योति माँ जगा के तेरी आस यह लगाई है
जिन का ना कोई उनकी तुही सहाई है
रौशनी अंधेरो में दिखा जा शेरो वालिये
शेर पे सवार होक आजा शेरा वालिये
शेरा वालिये माँ ज्योता वालिये

राखिओ माँ लाज इन अखियो के तारों की
डूबने ना पाए नैया हम बेसहारो की
नैया को किनारे पे लगा जा शेरा वालिये
शेर पे सवार होके आजा शेरा वालिये
शेरा वालिये माँ लाटां वालिये

सच्चे दिल से धयाणु जी ने जब था बुलाया माँ
कटा हुआ शीश तूने घोड़े का लगाया माँ
भगतों की आन को बचा जा शेरा वालिये
शेर पे सवार होके आजा शेरा वालिये
शेरा वालिये माँ ज्योता वालिये

No comments:

Post a Comment