Sunday, 7 April 2013

Mere Man Ke Andh Tamas Mein


Mere Man Ke Andh Tamas Mein,
Jyotirmayi Utaro,

jai jai maa, jai jai maa,

Mere Man Ke Andh Tamas Mein,
Jyotirmayi Utaro,

jai jai maa, jai jai maa,

Kaha Yaha Devo Ka Nandan,
Malyachal Ka Abhinav Chandan,

Mere Rur Ke Ujade Man Main,
Karunamayi Vicharo,

Mere Man Ke Andh Tamas Mein,
Jyotirmayi Utaro,

jai jai maa, jai jai maa,


Nahi Kahi Kuch Mujh Mein Sundar,
Kajal Sa Kala Yeh Antar,

Parano Ke Gehre Gehwar Mein,
Mamtamayi Vivro,

Mere Man Ke Andh Tamas Mein,
Jyotirmayi Utaro,

sarsvati bhi tu he,
mahalaxmi tu he,

mahakali bhi tu he,
hum bhakto ko var de,

मेरे मन के अंध तामस में,
ज्योतिर्मयी उतारो॥

जय जय माँ, जय जय माँ।

मेरे मन के अंध तामस में,
ज्योतिर्मयी उतारो॥

जय जय माँ, जय जय माँ।

कहा यहाँ देवो का नंदन,
मलयाचल का अभिनव चन्दन॥

मेरे रुर के उजड़े मन मैं,
करुनामयी विचारो॥

मेरे मन के अंध तामस में,
ज्योतिर्मयी उतारो॥

जय जय माँ, जय जय माँ।

नहीं कही कुछ मुझ में सुन्दर,
काजल सा कला यह अंतर॥

परानो के गहरे गह्वर में,
ममतामयी विवरों॥

मेरे मन के अंध तामस में,
ज्योतिर्मयी उतारो॥

सरस्वती भी तू हे,
महालक्ष्मी तू हे॥

महाकाली भी तू हे,
हम भक्तो को वर दे॥

No comments:

Post a Comment