Thursday, 11 April 2013

मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा - Maiya Ji Tera Pyar, Pyar Sacchi Mucchi Da



मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा
प्यारा तेरा द्वार, द्वार सच्ची मुच्ची दा

सिर मुक्ट सुहाया, लाल चोला गल्ल पाया
कन्नाँ विच्च झुमके, मत्थे तिलक सजाया
गल्ल हीरेयाँ दा हार, हार सच्ची मुच्ची दा
प्यारा तेरा द्वार, द्वार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा

तेरा दर हे अनोखा कद्दे मिलदा ना धौखा
तेरे नाम वाला मंतर माये सबनाँ तो सौखा
चार वैदाँ दा है सार, सार सच्ची मुच्ची दा
प्यारा तेरा द्वार, द्वार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा

बढे जोराँ दी हनेरी माये डोलदी है बेढी
फस्सी विच्च घुमर-घेरी, बाँ फढ ल्य मेरी
तूस्साँ करना है पार, पार सच्ची मुच्ची दा
प्यारा तेरा द्वार, द्वार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा

दिन फिर्रदे ने औदों दाती देख ल्वे जदों
तेरे दर्शनाँ दी ताँग, दस्स आयेंगी माँ कदों
माँ सबनाँ नू तार, तार सच्ची मुच्ची दा
प्यारा तेरा द्वार, द्वार सच्ची मुच्ची दा
मय्या जी तेरा प्यार, प्यार सच्ची मुच्ची दा

No comments:

Post a Comment