Thursday, 11 April 2013

Je Main Hauda Datiye Mor Tere Baaga Da - जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा


जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा
तेरी बागी पहलाँ पांदा
तेनू नच्च के वखान्दा
हो तेरे रज्ज-रज्ज दर्शन पांदा
जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा...
छम-छम नचदा तेरे वेढे
हरदम रहन्दा तेरे नेढे

जै मैं होन्दा दातीये फुल तेरे बागाँ दा
तेरी माला विच्च लग जान्दा
तेरे अंग-संग मुस्कान्दा
हो.. तेरे रज्ज-रज्ज दर्शन पांदा
जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा...
तेरे चरणाँ तो बल्लिय्हारी
वार देवाँ मैं खुशबु सारी

जै मैं होन्दा दातीये बौढ तेरे मन्दिराँ दा
झुले कंजकाँ नू झुलान्दा
अपनी छाँ दे विच्च बैठान्दा
तेरे रज्ज-रज्ज दर्शन पांदा
जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा
आन्दे भगत माँ तेरे प्यारे
रज्ज-रज्ज लेन्दे तेरे नजारे

जै मैं होन्दा दातीये पत्थर तेरी गुफा दा
चरणी भगताँ दे लग जान्दा
तेरी जय-जयकार बुलन्दा
तेरे रज्ज-रज्ज दर्शन पांदा
जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा
भगत तेरे माँ आँदे जाँदे
दाती तेरा नाम ध्याँदे

जै मैं होन्दा दातीये नीर तैरी गांगा दा
सबदे पाप मैं झौली पाँदा
चंचल मन निर्मल हो जाँदा
तेरे रज्ज-रज्ज दर्शन पांदा
जै मैं होन्दा दातीये मौर तेरे बागाँ दा

No comments:

Post a Comment