Monday, 1 April 2013

जय हनुमान दया के सागर, संकट मोचन शरण दान कर |

जय गणेश गिरिजा सुअन मंगल मूल सुजान|
हनुमान वंदन करूँ , जय हो कृपा निधान ||

जय हनुमान दया के सागर, संकट मोचन शरण दान कर |
शंकर रूप लिया धरती पर, दया करो अब हम पर सब पर ||

सूर्य देव हैं गुरु तुम्हारे देते सबको शक्ति|
चाहे कोई करे ना करे उनकी कोई भक्ति ||

सूर्य शिष्य हो तुम भी करते रहना यह उपकार|
हम हैं अज्ञानी हम मूरख करना बेड़ा पार ||

बैठ पताका रथ की तुमने अर्जुन का भी काम किया|
दे आशीस दया कर देना जीवन तेरे नाम किया||

_/\_ मारुति नंदन नमो नमः _/\_ कष्ट भंजन नमो नमः _/\_
_/\_ असुर निकंदन नमो नमः _/\_ श्रीरामदूतम नमो नमः _/\_

No comments:

Post a Comment