Sunday, 5 February 2012

Hum Kabhi Mata Pita Ka Rin Chuka Sakate Nahin - हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं

Hum Kabhi Mata Pita Ka Rin Chuka Sakate Nahin
Itne Toh Ayesaan Inke Gina Sakte Nahin

Yeh Kahan Pooja Mein Shakti, Yeh Kahan Fal Jaap Ka
Ho Toh Ho Inki Kripa Se Khathma Santaap Ka

Inki Sewa Se Mile Dhan, Gyan, Bal Lambi Umar
Swarg Se Barkar Hain Jag Mein Aasra Maan Baap Ka

Inki Tulna Mein Kooi, Wastu Bhi La Sakte Nahin… Hum Kabhi Mata…
Dekh Le Hum Ko Dukhi Toh, Bhar Le Apne Nain Yeh

Bhook Lagti Pyaas Na, Aur Neend Bhi Aati Nahin
Kast Hoh Tan Pe Hamare, Hoh Uthe Bechain Yeh

Is Se Bar Kar Devata Bhi, Sukh Dila Sakte Nahin… Hum Kabhi Mata…
Par Lo Ved Aur Shastr Ka Hi, Yekh Yah Bhi Marm Hain

Yogatam Santaan Ka Yah, Subse Uttam Karm Hain
Jagat Mein Jab Tak Rahen. Sewa Kareh Maan-Baap Ki

Inke Charoon Mein Yah, Tan Man Dhan Lootana Dharm Hain
Yah Pathik Wah Satya Hain, Jisko Jhota Sakte Nahin… Hum Kabhi …
***
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं
इतने तोह एहसान इनके गिना सकते नहीं

यह कहाँ पूजा में शक्ति, यह कहाँ फल जाप का
हो तोह हो इनकी कृपा से खत्म संताप का

इनकी सेवा से मिले धन, ज्ञान, बल, लम्बी उम्र
स्वर्ग से बढकर हैं जग में आसरा माँ बाप का

इनकी तुलना में कोई, वस्तु भी ला सकते नहीं
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं 

देख ले हम को दुखी तोह, भर ले अपने नैन यह
भूख लगती प्यास न, और नींद भी आती नहीं

कष्ट हो तन पे हमारे, हो उठे बेचैन यह
इससे बढकर देवता भी, सुख दिला सकते नहीं

हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं 

पढ़ लो वेद और शास्त्र का ही, एक यह भी मर्म हैं
योग्यतम संतान का यह, सबसे उत्तम कर्म हैं

जगत में जब तक रहें. सेवा करें माँ-बाप की
इनके चरणों में यह, तन मन धन लूटना धर्म हैं

यह पथिक वह सत्य हैं, जिसको झूठा सकते नहीं
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं

No comments:

Post a Comment