Monday, 27 February 2012

Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye.

Apni sharan me le lo, teri sharan mein aaye
Dukh jitna humne paaye, tum utna yaad aaye
Apni sharan mein le lo, teri sharan mein aaye.

Maine kadar na jani, unmol zindagi ki

Sumiran kabhi na kiya, na hi to bandagi ki
Phir bhi to hum tumhare, koi hai nahi paraye
Apni sharan me le lo, koi hai nahi paraaye
Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye.

Tu ne Prabhu Ji humko, sab kuch hi de rakha hai
Ye surya chand taare, sansar sab racha hai
Teri bina kripa ke, koi saath chal napaaye
Apni sharan me le lo, koi saath chal napaaye
Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye.


Hum ko nahin hai chinta, jyada ya kam ki Ishwar
Khud dhyan hai tumhe hi, apno ka ye Prabhuwar
Is daas par daya ho, jeevan sanwar hi jaaye
Apni sharan me le lo, jeevan sanwar hi jaaye.
Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye.

Dukh jitna humne paye, Tum utna yaad aaye
Apni sharan me le lo
Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye
Apni sharan me le lo, teri sharan me aaye.

Thursday, 16 February 2012

Sanu charna to kari na tu door daateya


Mai ha tutte patte warga, 'te samay di tez haneri
Dar-Dar ja ke khawa thede, koi banh ni farhda meri
Duniya ta layi dekh mangal ne, daata oat bachi e teri
Rahi bakshda tu, keete hoye kasoor daateya,
Sanu charna to kari na tu door daateya.

Assi kaparhe nu charhe kache rang warge
Assi kach di banayi hoyi wang warge
Ikko jhatke 'ch ho jawange choor daateya,
Sanu charna to kari na tu door daateya.

Is tann vich jihne kone saah wasde,
Har saah vich lakha hi gunah wasde
Mano door kar maan 'te garoor daateya,
Sanu charna to kari na tu door daateya.

Assi paani utte khichi hoyi lakeer warge
Kise jharhi vich fassi hoyi leer warge
Khaaksaar eh mangal hathoor daateya,
Sanu charna to kari na tu door daateya.

Tuesday, 7 February 2012

Ek Daal Do Panchi Re Baitha Kaun Guru Kaun Chela


Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo
Guru Ki Karni Guru Bharega,
Guru Ki Karni Guru Bharega, Chela Ki Karni Chela Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo

Mati Chun Chun Rain Banaya
Log Kahe Re Ghar Mera
ho ho hooo
Na Ghar Tera Na Ghar Mera
Na Ghar Tera Na Ghar Mera
Duniya Rain Basera Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
ho ho hooo
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Kaudi Kaudi Maya Jodi
Jod Bharela Thela
ho ho hooo
Kehat Kabir Suno Bhai Sadhu
Kehat Kabir Suno Bhai Sadhu
Sang Chale Na Thela Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Matra Kahe Yeh Putra Hamara
Behan Kahe Yeh Veera
Bhai Kahe Yeh Bhuja Hamari
Bhai Kahe Yeh Bhuja Hamari
Nari Kahe Yeh Nar Mera Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Peeth Pakad Ke Mata Roye
Baah Pakad Ke Bhai
ho ho hooo
Lapat Jhapat Ke Tiriyaa Roye
Lapat Jhapat Ke Tiriyaa Roye
Hans Akela Jaye Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Jab Tak Jeeve Mata Roye
Bhehan Roye Dus Maah Sa
ho ho hooo
Barah Din Tak Tiriyaa Roye
Barah Din Tak Tiriyaa Roye
Bed Kare Ghar Vaasa Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Chaar Bhujhi Chadar Mangwai
Chada Kaath Ki Ghodi
ho ho hooo
Charon Kone Aag Lagai
Charon Kone Aag Lagai
Phook Diyo Jas Hori Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Bhaad Jale Ho Jaise Lakadi
Khet Jale Jas Dhaaga
ho ho hooo
Sona Jaisi Kaaya Jal Gai
Sona Jaisi Kaaya Jal Gai
Koi Na Aaya Paasa
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo


Ghar Ki Tiriyaa Dhoodhan Lagi
Dhoond Fhiri Chahu Jaisa
Kehat Kabir Suno Bhai Sadhu
Chodo Jag Ki Asha, Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo

Bandh bandh mein baag lagaya
Baag lagaya akela
ho ho hooo
Kacche pakke ki maram na jaane
Kacche pakke ki maram na jaane
Tooda Phool ka Dhela Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo

Na Koi Aata
Na Koi Jaata
Jhoota Jagat Ka Naata
ho ho hooo
Na Kahu Ki Bhehan-Bahanki
Na Kahu Ki Maata Re Sadhu Bhai
Ud Ja Hans Akela
Ek Daal Do Panchi Re Baitha,
Kaun Guru Kaun Chela
ho ho hooo

Shanti keejiye prabhu tribhuvan mein - शांति कीजिये प्रभु त्रिभुवन में

Shanti keejiye prabhu tribhuvan mein,
Jal mein thal mein aur gagan mein,
Antriksh mein agni pavan mein,
Sakal jagat ke jad chetan mein

Brahman ke updesh vachan mein,
Kshtriya ke dwara hove ran mein,
Vaishya jano ke hove dhan mein,
aur Shudra ke hi charan mein.

Shanti rashtr nirvan srajan mein,
Nagar gram mein aur bhawan mein,
Jeev matra ke tan mein mann mein,
aur Jagat ke hi karn-karn mein...

Shanti keejiye prabhu tribhuvan mein...
***
शांति कीजिये प्रभु त्रिभुवन में
जल में थल में और गगन में
अन्तरिक्ष में अग्नि-पवन में
सकल जगत के जड़ चेतन में.

ब्रह्मण के उपदेश वचन में,
क्षत्रिय के द्वारा होवे रण में,
वैश्य जनों के होवे धन में,
और शुद्र के ही चरण में.

शांति राष्ट्र निर्माण सृजन में,
नगर ग्राम में और भवन में,
जीव मात्र के तन में मन में,
और जगत के हर कण-कण में,

शांति कीजिये प्रभु त्रिभुवन में...

Sunday, 5 February 2012

Hum Kabhi Mata Pita Ka Rin Chuka Sakate Nahin - हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं

Hum Kabhi Mata Pita Ka Rin Chuka Sakate Nahin
Itne Toh Ayesaan Inke Gina Sakte Nahin

Yeh Kahan Pooja Mein Shakti, Yeh Kahan Fal Jaap Ka
Ho Toh Ho Inki Kripa Se Khathma Santaap Ka

Inki Sewa Se Mile Dhan, Gyan, Bal Lambi Umar
Swarg Se Barkar Hain Jag Mein Aasra Maan Baap Ka

Inki Tulna Mein Kooi, Wastu Bhi La Sakte Nahin… Hum Kabhi Mata…
Dekh Le Hum Ko Dukhi Toh, Bhar Le Apne Nain Yeh

Bhook Lagti Pyaas Na, Aur Neend Bhi Aati Nahin
Kast Hoh Tan Pe Hamare, Hoh Uthe Bechain Yeh

Is Se Bar Kar Devata Bhi, Sukh Dila Sakte Nahin… Hum Kabhi Mata…
Par Lo Ved Aur Shastr Ka Hi, Yekh Yah Bhi Marm Hain

Yogatam Santaan Ka Yah, Subse Uttam Karm Hain
Jagat Mein Jab Tak Rahen. Sewa Kareh Maan-Baap Ki

Inke Charoon Mein Yah, Tan Man Dhan Lootana Dharm Hain
Yah Pathik Wah Satya Hain, Jisko Jhota Sakte Nahin… Hum Kabhi …
***
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं
इतने तोह एहसान इनके गिना सकते नहीं

यह कहाँ पूजा में शक्ति, यह कहाँ फल जाप का
हो तोह हो इनकी कृपा से खत्म संताप का

इनकी सेवा से मिले धन, ज्ञान, बल, लम्बी उम्र
स्वर्ग से बढकर हैं जग में आसरा माँ बाप का

इनकी तुलना में कोई, वस्तु भी ला सकते नहीं
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं 

देख ले हम को दुखी तोह, भर ले अपने नैन यह
भूख लगती प्यास न, और नींद भी आती नहीं

कष्ट हो तन पे हमारे, हो उठे बेचैन यह
इससे बढकर देवता भी, सुख दिला सकते नहीं

हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं 

पढ़ लो वेद और शास्त्र का ही, एक यह भी मर्म हैं
योग्यतम संतान का यह, सबसे उत्तम कर्म हैं

जगत में जब तक रहें. सेवा करें माँ-बाप की
इनके चरणों में यह, तन मन धन लूटना धर्म हैं

यह पथिक वह सत्य हैं, जिसको झूठा सकते नहीं
हम कभी माता पिता का ऋण चूका सकते नहीं

मैया मोरी, मैं नही माखन खायो Maiyaa mori, main Nahi Makhan Khayo


मैया मोरी, मैं नही माखन खायो

Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka तुने अजब रचा भगवान खिलौना माटी का


तुने अजब रचा भगवान खिलौना माटी का ।

कान दिए हरी भजन सुनन को ।
तू मुख से कर गुणगान ॥

जीभा दी हरी भजन करन को ।
दी आँखे कर पहचान ॥

शीश दिया गुरु चरण झुकन को ।
और हाथ दिए कर दान ॥

सत्य नाम का बना का बेडा ।
और उतरे भाव से पार ॥
***
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka - 2
Maati ka re maati ka - 2
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka - 2

Kaan diye hari bhajan sunan ko - 4
Tu mukh se kar gungaan,
Khilona maati ka
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka

Jeewha di hari bhajan karan ko - 4
Di aankhen kar pehchan,
Khilona maati ka
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka

Sees diya guru charan jhukan ko - 4
Or haath diye kar daan,
Khilona maati ka
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka

Satya naam ka banaa ke beda - 4
Or utre bhav se paar,
Khilona maati ka
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka
Maati ka re maati ka - 2
Tune ajab racha bhagwan khilona maati ka - 8

Saturday, 4 February 2012

Bhagwan meri naiya us paar laga dena


Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Ab tak to nibhaya hei, aage bhi nibha dena
Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Ab tak to nibhaya hei, aage bhi nibha dena

Hum din dukhi nirbal, ek naam rahe pratipal....hoji hooo
Yeh soch daras doge, prabhu aaj nahi to kal
Jo baag lagaya hei, phoolo se saja dena...
Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Ab tak to nibhaya hei, aage bhi nibha dena

Tum shanti sudhakar ho, tum gyan divakar ho...hoji...hoooo
Mum hans chuge moti, tum maan sarovar ho...
Do bund sudha ras ki, hum ko bhi pila dena...
Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Ab tak to nibhaya hei, aage bhi nibha dena

Rokoge bhala kab tak, darshan ko mujhe tumse...hoji...hooo
Charno se lipat jaaun, vruksho ki lata jaise...
Ab dwar khadi tere, mujhe raah dikha dena
Bhagwan meri naiya us paar laga dena
Ab tak to nibhaya hei, aage bhi nibha dena.

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं
कोई वस्तु नहीं ऐसी, जिसे सेवा में लाऊं मैं.

करें किस तौर आवाहन कि तुम मौजूद हो हर जां,
निरादर है बुलाने को, अगर घंटी बजाऊं मैं.

तुम्हीं हो मूर्ति में भी, तुम्हीं व्यापक हो फूलों में,
भला भगवान  पर भगवान को कैसे चढाऊं मैं.

लगाना भोग कुछ तुमको, यह एक अपमान करना है,
खिलाता है जो सब जग को, उसे कैसे खिलाऊं मैं.

तुम्हारी ज्योति से रोशन हैं, सूरज, चांद और तारे,
महा अन्धेर है कैसे तुम्हें दीपक दिखाऊं मैं.

भुजाएं हैं, न गर्दन है, न सीना है न पेशानी,
तुम हो निर्लेप नारायण, कहां चंदन लगाऊँ मैं.

बड़े नादान है वे जन जो गढ़ते आपकी मूरत
बनाता है जो सब जग को, उसे कैसे बनाऊँ मैं.    

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं
कोई वस्तु नहीं ऐसी, जिसे सेवा में लाऊं मैं.

Friday, 3 February 2012

हर बात भुला दो जीवन में यह बात भुलाओ न जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न


हर बात भुला दो जीवन में यह बात भुलाओ न
यह बात भुलाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न
हर बात भुला दो जीवन में यह बात भुलाओ न
यह बात भुलाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

पाने के लिए तुमको कितनी चौखट पे सदा दी है
जप तप व्रत और मन्नत मांगी, कितनी पूजा की है
जब गर्भ में माँ के तू आया
हर सुख को त्याग दिया
तकलीफ़ तुम्हे न हो कोई बस यह प्रयास किया.

भारी कष्टों को सह कर तुमको दुनिया में लाई
तेरे रोने पे माँ रोई
हँसने पर मुस्कुराई
खुद को कर घीले में, सूखे में तुम्हे सुलाया है
अपने मुख का टुकड़ा भी माँ ने तुम्हे खिलाया है
ऐसी भोली माँ के दिल को तुम ठेस लगाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

फिर पकड़ के उंगली माँ ने तुमको चलना सीखलाया
दी कदम - कदम पर माँ ने अपने आँचल की छाया
जब लगा बोलने नाम यही पहले लब पर आया
तेरी इन बातों में माँ ने सच्चा सुख है पाया
दे खून जिगर का सीची तेरी जीवन फुलवारी
तेरी तुतलाती बोली पर माँ जाये बलहारी
अपने स्तन का दूध पिलाकर तुमको बड़ा किया.
देकर के अपने संस्कार पैरों पर खड़ा किया.
माँ के त्यागों की गाथा को तुम यूँ बिसराओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

अब और सुनो सज्जन तुमको एक कथा सुनते है
माँ की ममता क्या होती है हम तुम्हे बताते है

"एक नगर में एक माँ अपने बेटे के संग रहती थी
बेटे के ख़ुशी की खातिर वोह क्या क्या दुःख सहती थी
नाकारा बेटा था उसका कुछ काम न करता था
बेमकसद, आवारा, गलियों में वोह घुमा करता था
बेचारी माँ मजदूरी करके घर चलाती थी
फिर भी नहीं शिकवा कोई होंठों पर लाती थी
ऐसी माँ के अंचल पर कोई दाग लगाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

उस माँ का बेटा, प्रेम एक लड़की से करता था
दीवाना बन खयालो में उसी के खोया रहता था
इकरार किया  लड़की से उसने दिल की बात कह दी
दुल्हन बन जाओ तुम मेरी, कर लो मुझसे शादी
लड़की बोली कर सकते हो तुम सच्चा प्यार नहीं
धोखा दे जाओगे तुम मुझको, तुम पर ऐतबार नहीं
लड़का बोला जो यकीन नहीं, तुम मुझको अजमा लो
दुनिया की कोई भी वस्तु तुम मुझसे मंगवा लो
लड़की बोली जाओ जाओ यूँ बात बनाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

लड़की ने कहाँ अपनी माँ का दिल मुझको लाकर दो
करते हो सच्चा प्यार मुझे तुम यह साबित कर दो
इतनी सुनते ही उछल पड़ा वोह जालिम अनन्याई
चल पड़ा जिगर लेने माँ का न लाज शर्म आई 
भूखी प्यासी माँ के दिल पर झट उसने वार किया
बेदर्दी में खंजर माँ के सीने में पार किया
चल पड़ा जिगर लेकर वोह ज़ालिम हत्यारा
चढ़ने न दिया चौखट पर उस लड़की ने दुत्कारा
ओ कातिल माँ के मुझको अपनी शक्ल दिखाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

लड़की बोली जा नीच बुरा तुझसे क्या होगा
जो हुआ न अपनी जननी का वोह मेरा क्या होगा
ले चली पकड़कर पुलिस उसे दिल माँ का डोल उठा
बेटे को देख मुसीबत में दिल माँ का बोल उठा
निर्दोष है मेरे लाल छोड़ दो दिल के टुकड़े को
फिर और कहाँ से लाऊँगी मैं चाँद से मुखड़े को
सुनकर यह बेटा तड़प उठा और बोला रो रो कर
दुनिया मेरी वीरान हुई ये माँ तुझको खोकर
बनकर कपूत उसकी राहों में शूल बिछाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २"

माँ जैसी पावन ममता न दूजी संसार में
सब कुछ निछावर कर देती बच्चों के प्यार में
इस एक शब्द में छुपी है सारी दुनिया की दौलत
माँ ही मंदिर, माँ ही पूजा और माँ ही है जन्नत
इसके चरणों की सेवा से जीवन धन्य कर लो
इसकी ममता की दौलत से दामन अपना भर लो
भगवान से भी ऊचाँ दर्जा माता का होता है
जो ठुकराये ममता इनकी निरभागी होता है
ठुकरा के जीवन अपना नरक बनाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - २

 हर बात भुला दो जीवन में यह बात भुलाओ न
यह बात भुलाओ न
जीवन देने वाली माँ का दिल कभी दुखाओ न
यह बात भुलाओ न

है माँ ममता की खान
कहते है वेद पुराण - ४

तुम्ही हो माता, पिता तुम्ही हो, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो


तुम्ही हो माता, पिता तुम्ही हो, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो
तुम्ही हो माता, पिता तुम्ही हो, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो

तुम्ही हो साथी, तुम्ही सहारे, कोई न अपना, सिवा तुम्हारे
तुम्ही हो साथी, तुम्ही सहारे, कोई न अपना, सिवा तुम्हारे
तुम्ही हो नैया, तुम्ही खिवैया, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो
तुम्ही हो माता, पिता तुम्ही हो, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो

जो खिल सके न, वो फूल हम हैं, तुम्हारे चरणों की, धूल हम हैं
जो खिल सके न, वो फूल हम हैं, तुम्हारे चरणों की, धूल हम हैं
दया की दृष्टि सदा ही रखना, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो
तुम्ही हो माता, पिता तुम्ही हो, तुम्ही हो बंधु, सखा तुम्ही हो

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में




अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में - २ 

मेरा निश्चय बस एक यही, इक बार तुम्हे मैं पा जाऊं
इक बार तुम्हे मैं पा जाऊं 
मेरा निश्चय बस एक यही, इक बार तुम्हे मैं पा जाऊं 
अर्पण कर दूँ दुनिया भर का, सब प्यार तुम्हारे हाथों में.

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में. 

जो जग में रहूँ तो ऐसे रहूँ, जो जल में कमल का फूल रहे 
जो जल में कमल का फूल रहे 
जो जग में रहूँ तो ऐसे रहूँ, जो जल में कमल का फूल रहे
मेरे गुण दोष समर्पित हो, भगवान् तुम्हारे हाथों में.

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में. 

यदि मानुष का मुझे जन्म मिले, तब चरणों का मैं पुजारी बनूँ 
तब चरणों का मैं पुजारी बनूँ 
यदि मानुष का मुझे जन्म मिले, तब चरणों का मैं पुजारी बनूँ 
इस पूजक की इक - इक नस का, सब तार तुम्हारे हाथों में

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में. 

जब - जब संसार का कैदी बनूँ , निष्काम भाव से कर्म करूँ
निष्काम भाव से कर्म करूँ
फिर अंत समाये में प्राण तजूं, निराकार तुम्हारे हाथों में.

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में. 

मुझमे तुझमे बस भेद यही, मैं नर हूँ आप नारायण हो
मैं नर हूँ आप नारायण हो 
मैं हूँ संसार के हाथों में, संसार तुम्हारे हाथों में.

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में
है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में - २ 

Thursday, 2 February 2012

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता. जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.





मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.
मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता - ४ 


क्या साधू, क्या संत, गृहस्थी, क्या राजा, क्या रानी - २ 
प्रभु की पुस्तक में लिखी है, सबकी करम कहानी.
अंतर्यामी अन्दर बैठा सबका हिसाब लगता.



मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.



बड़े - बड़े कानून का प्रभु के, बड़ी - बड़ी मर्यादा - २ 
किसी को कौड़ी कम नहीं मिलती, मिले न पाए ज्यादा.
इसलिये यह दुनिया का, जगतपति कहलाता.



मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

चले न उसके आगे रिशिवत, चले नहीं चालाकी - २ 
उसकी लेन-देन की बन्दे, रीति बड़ी है बाँकी.
समझदार तो चुप है रहता, मुरख शोर मचाता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.



उजले करनी कर ले बन्दे, करम न करियो काला - २
लाख आँख से देख रहा है, तुझे देखने वाला.
उसकी तेज नज़र से बन्दे, कोई नहीं बच पाता.



मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

***
मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता

जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.
क्या साधू क्या गृहस्थी, क्या राजा क्या रानी
प्रभु की पुस्तक में लिखी है, सबकी करम कहानी.
बड़े-बड़े व जमा खर्च का, सही हिसाब लगता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता 
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता. 

वहाँ न चलती रिश्वत खोरी, नहीं चले चालाकी
मेरे प्रभु के लेन-देन की, रीति बड़ी है बाँकी.
पुण्य का बेड़ा पार करे वह, पाप की नाव डुबाता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

बड़ा कदा कानून का प्रभु का, बड़ी - बड़ी मर्यादा.
किसी को कौड़ी कम नहीं देता, किसी को दमड़ी ज्यादा.
इसलिये तो इस दुनिया का, जगत सेठ कहलाता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

करता है वह न्याय सभी का, एक आसन पै डटके
प्रभु का न्याय कभी न पलटे, लाख कोई सिर पटके.
समझदार तो चुप रहता है, मुरख शोर मचाता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

अच्छी करनी करियो रे भैया, करम न करियो काला
लाख आँख से देख रहा है, वह प्रभु देखने वाला.
अच्छी करनी करो चतुर नर, समय गुजरता जाता.

मेरे दाता के दरबार में, सब लोगों का खाता
जो कोई जैसी करनी करना, वैसा ही फल पाता.

Wednesday, 1 February 2012

Sansar Ke Logo Se Asha Na Kiya Karna Jab - Jab Mann Vichalit Ho Hari Naam Liya Karna


Sansar Ke Logon Se Asha Na Kiya Karna
Jab - Jab Mann Vichalit Ho Hari Naam Liya Karna - 2

Jeewan Ke Sagar Mein Toofan Bhi Aate Hai
Jo Prabhu Ko Bhajte Hai Prabhu Unko Bachate Hai
Bhagwan Ko Aata Hai Bhakton Par Kripa Karna

Sansar Ke Logon Se Asha Na Kiya Karna...

Tu Samajhle Aye Bande Prabhu Tujhse Door Nahi
Bhakton Ko Kasth Mile Hari Ko Manjoor Nahi
Hari Khud Hi Aayenge Tu Unko Rata Karna

Sansar Ke Logon Se Asha Na Kiya Karna...

Yahan Dava Na Jama lena Yeh Desh Begana Hai - 2

Is Sehar Mein Aye Prani Tujhe Laut Na Aana Hai
Yeh Maya Nagari Hain Yahan Mann Na Fasa Lena

Sansar Ke Logon Se Asha Na Kiya Karna
Jab - Jab Mann Vichalit Ho Hari Naam Liya Karna - 2

Sansar Ke Logon Se Asha Na Kiya Karna - 3

तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा.



तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा - ४
बरसेगा भाई बरसेगा - ६
तुम्हें होगा प्रभु का दीदार, अमृत बरसेगा.    
तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा - ४ 

दया-धर्म से प्रीत कर लो,
भव-सागर से पार उतर लो.
तेरा जो जाये बेडा पार,
अमृत बरसेगा. 
तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा - ४ 

सच्चे ज्ञान का पहला गहना,
कड़वा बोल कभी न कहना.
तुम करो आत्म उद्वार,
अमृत बरसेगा. 
तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा - ४ 

प्रभु नाम का अमृत प्याला,
पीले बनकर तू मतवाला,
यह मिले न बारम्बार,
अमृत बरसेगा. 
तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा - ४ 

तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा.
बरसेगा नित बरसेगा - २
तुम करो प्रभु से प्यार, अमृत बरसेगा.