Tuesday, 6 September 2011

Hey maruti saari ram kataha ka saar tumhari aankhon mein - हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में

हे मारुति
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
दुनियाँ भर की भक्ति का हैं भंडार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
जै जय जय बजरंगबली, जै जय जय बजरंगबली - २


तुम प्रेम भरी एक गागर हो
शक्ति के अनोखे सागर हो
जहाँ राम नाम का हीरा मिले - २,
उस हाथ के तुम सौदागर हो
सरकार की आँखों में तुम हो
सरकार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
दुनियाँ भर की भक्ति का हैं भंडार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
जै जय जय बजरंगबली, जै जय जय बजरंगबली - २

तुम जैसी विभूति न अन्य हुई
प्रभु भक्ति तुम्हारी अनन्य हुई
प्रतिभा के धनी हनुमान सुनो - २
तुम्हे पाकर यह धरती धन्य हुई
माता मिथिलेश दुलारी का है - २
है प्यार तुम्हारी आँखों मेंहे मारुति
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
दुनियाँ भर की भक्ति का हैं भंडार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
जै जय जय बजरंगबली, जै जय जय बजरंगबली - २


हर भक्ति की भक्ति के प्राण हो तुम
हर वीर की शक्ति की शान हो तुम
तुम लाखों में एक हो हनुमंता - २
वसुधा के लिए वरदान हो तुम
दिन रात लगा रहे प्रभु का- २
दरबार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
दुनियाँ भर की भक्ति का हैं भंडार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति सारी राम कथा का सार तुम्हारी आँखों में
हे मारुति
जै जय जय बजरंगबली, जै जय जय बजरंगबली - २

No comments:

Post a Comment