Tuesday, 23 August 2011

हे हनुमान तुम हो रामजी के दास, मैं हूं दास तुम्हारा।

हे हनुमान तुम हो रामजी के दास
मैं हूं दास तुम्हारा।

No comments:

Post a Comment