Saturday, 2 July 2011

दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करें न कोए। जो सुख में सुमिरन करें तो दुख काहे को होए।।

दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करें न कोए। 
जो सुख में सुमिरन करें तो दुख काहे को होए।।

No comments:

Post a Comment