Tuesday, 14 June 2011

*** जय बजरंग बली ***

दुर्गम काज जगत के जेते, 
सुगम अनुग्रहा तुम्हारे तेते, 

राम डुआरे तुम रखवारे, 
होत ना आज्ञा बिन पैसारे 

सब सुख लहै तुम्हारी सरना, 
तुम रक्षक काहु को डरना

*** जय बजरंग बली ***

No comments:

Post a Comment