Thursday, 30 June 2011

SRI SAI BABA AARTI

SRI SAI BABA AARTI

AARTI SHRI SAI GURUVAR KI
PARMANAND SADA SURUVAR KI... AARTI

JA KI KRIPA VIPUL SUKHKARI
DUKH, SHOK, SANKAT BHAYHARI

SHIRDI MEIN AVTAAR RACHAYA
CHAMATKAR SE TATVA DIKHAYA

KITNE BHAKT CHARAN PAR AAYE
VE SUKH SHANTI CHIRANTAN PAAYE

BHAV SHARAI JO MAIN MEIN JAISA
PAVAT ANUBHAV WOHI VAISA

GURU KI UDI LAGAVE TANKO
SAMADHAN LABHAT US MAN KO

SAI NAM SADA JO GAAVE
SO PHAL JAG MEIN PAAVE

GURUBASAR KARI POOJA SEVA
US PAR KRIPA KARAT GURUDEVA

RAMA, KRISHNA, HANUMAN ROOP MEIN
DE DARSHAN JANAT JO MAN MEIN

VIVIDH DHARAM KE SEVAK AATE
DARSHAN ICCHHIT PHAL PAATE

JAI BOLO SAI BABA KI
JAI BOLO AVDHOOT GURU KI

SAIDAS AARTI JO GAAVE
GHAR MEIN BASI SUKH, MANGAL PAAVE.

शिरडी वाले सांई बाबा आया है तेरे दर पे सवाली

जमाने ने कहा टूटी हुई तश्वीर बनती है,
तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तक्दीर बनती है ।

तारीफ तेरी निकली है दिल से,
आयी है लव बनके कवाली
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

लव पे दुआएँ आँखो में आंसू
दिल में उम्मीदें पर झोली खाली
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

दर पे सवाली आया दर पे सवाली,
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

ओ मेरे सांई देवा तेरे सब नाम लेवा ।
ओ मेरे सांई देवा तेरे सब नाम लेवा ।

खुदा इनसान सारे सभी, तुझको हैं प्यारे,
सुने फरियाद सबकी, तुझे है याद सबकी,
बड़ा या कोई छोटा, नहीं मायूस लूटा,
अमीरों का सहारा, गरीबों का गुजारा,
तेरी रहमत का किस्सा ब्यान अकबर करे क्या,
दो दिन की दुनिया, दुनिया है गुलशन,
सब फूल कांटे, तू सब का माली,
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

खुदा की शान तुझमें,
दिखें भगवान तुझमें--------2


तुझे सब मानते है,
तेरा घर जानते है,
चले आते है दौड़े,
जो खुश किस्मत है थोड़े,
ये हर राही की मन्जिल,
ये हर कश्ती का साहिल,
जिसे सब ने निकाला,
उसे तूने सम्भाला,

जिसे सबने निकाला, उसे तूने सम्भाला.......

तू बिछड़ों को मिलाये,
बुझे दीपक जलाये---------2


ये गम की रातें, रातें ये काली,
इनको बनादे ईद और दीवाली

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

लव पे दुआएँ आँखो में आंसू
दिल में उम्मीदें पर झोली खाली

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली--------4

Aaaaa...
Zamane ne kaha tooti hui tasweer banti hai
Tere darbaar main bigdi hui taqdeer banti hai

Tareef teri nikli hai dil se
Aayi hai lab pe ban ke qawaali
Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Chorus:
Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Lab pe duayen aakhon main aansoon
Dil main umeedein par jholi khali
Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Chorus:
Dar pe sawali, aaya hai dar pe sawali

Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Chours:
Ooo...

O mere sai deva tere sab naam lewa

Chours:
O mere sai deva tere sab naam lewa

Khuda insaan saare sabhi, tujhko hain pyaare
Sune fariyaad sabki, tujhe hai yaad sabki
Bada ya koi chhota, nahi mayoos lauta
Ameeron ka sahara, gareebon ka guzara
Teri rahmat ka kissa bayan akbar kare kya
Do din ki duniya, duniya hai gulshan
Sab phool kaante, too sab ka mali

Chorus:
Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Khuda ki shaan tujhme
Dikhe bhagwaan tujhme

Chorus:
Khuda ki shaan tujhme
Dikhe bhagwaan tujhme

Tujhe sab maante hain
Tera ghar jaante hain
Chale aate hain daude
Jo khush kismat hain thode
Yeh har rahi ki manzil
Yeh har kashti ka sahil
Jise sab ne nikala
Use toone sambhala

Chorus:
Jise sab ne nikala
Use toone sambhala

Too bichhdon ki milaye
Bujhe deepak jalaye

Chorus:
(Too bichhdon ki milaye
Bujhe deepak jalaye) -2

Yeh gam ki raatain, raatain yeh kaali
Inko banade id aur diwali

Chorus:
Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali

Lab pe duayen aakhon main aansoon
Dil main umeedein par jholi khali

Chorus:
(Shirdi wale sai baba
Aaya hai tere dar pe sawali) -4

साई बाबा की आरती

साई बाबा की आरती

आरती उतारे हम तुम्हारी साईँ बाबा ।
चरणों के तेरे हम पुजारी साईँ बाबा ॥
विद्या बल बुद्धि, बन्धु माता पिता हो
तन मन धन प्राण, तुम ही सखा हो
हे जगदाता अवतारे, साईँ बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईँ बाबा ॥
ब्रह्म के सगुण अवतार तुम स्वामी
ज्ञानी दयावान प्रभु अंतरयामी
सुन लो विनती हमारी साईँ बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईँ बाबा ॥

आदि हो अनंत त्रिगुणात्मक मूर्ति
सिंधु करुणा के हो उद्धारक मूर्ति
शिरडी के संत चमत्कारी साईँ बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईँ बाबा ॥
भक्तों की खातिर, जनम लिये तुम
प्रेम ज्ञान सत्य स्नेह, मरम दिये तुम
दुखिया जनों के हितकारी साईँ बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईँ बाबा ॥

जिस साईं ने दर्द दिया है वो ही दवा भी देगा...

धीरज रख वो रहमत की
बरखा बरसा भी देगा.
जिस साईं ने दर्द दिया है
वो ही दवा भी देगा...

तोड़ कभी ना आस की डोरी ,
खुशियाँ देगा भर-भर बोरी.
मगर वो गम की परछाई से
तुजे डरा भी देगा...
जिस साईं ने...

मांग मैं भर बिंदिया से पहले
नाम वही निंदिया से पहले.
एक दिन वो तेरी आशा को
इक चेहेरा भी देगा...
जिस साईं ने...

बढ जायेगी हिम्मत तेरी
घटेगी जब घनघोर अँधेरी.
बूंद-बूंद तर्सानेवाला
जाम पिला भी देगा...
जिस साईं ने...

Koi kahe sant tujhako, koi fakir re

Koi kahe sant tujhako, koi fakir re,
Muze mera baba lage sabse Amir re...
Koi kahe sant tujhako, koi fakir re,
Muze mera baba lage sabse Amir re...

Baba tere charano me jo bhi aaye,
Man Ki murade puri ho jaye,
Baba tere charano me jo bhi aaye,
Man Ki murade puri ho jaye,
Tune hi samjhi hai
Tune hi samjhi hai Dukhiyo ki peer re,
Muze mera baba lage sabse Amir re...

Baba tere jaisa nahi koi jag mein,
Tu hi sambhale mujhe pag pag mein,
Baba tere jaisa nahi koi jag mein,
Tu hi sambhale mujhe pag pag mein,
Chahe to badal de tu
Chahe to badal de tu Hatho ki Lakir re
Muze mera baba lage sabse Amir re...

Tere bhakto ne jab jab hai pukara,
Pal me baba tu bana hai sahara,
Tere bhakto ne jab jab hai pukara,
Pal me baba tu bana hai sahara
Tu he savare sabki khoti taqdeer re
Muze mera baba lage sabse Amir re...

Koi kahe sant tujhako, koi fakir re,
Muze mera baba lage sabse Amir re...

Sabka Malik Tu Sai Ram...

Is duniya ka tu hai data
Sai tu sabka bhagya vidhata
Sai tu sabka palan hara
Param pita tum, hum santan
Sabka Malik Tu Sai Ram...

Wednesday, 29 June 2011

Ramayan Manka 108 by Sarita Joshi










Ramayan Manka 108

MANGAL BHAVAN AMANGALHARI 
DRAVAHU SO DASHRATH AJAR BIHARI 
RAM SIYA RAM SIAY RAM JAI JAI RAM

HARI ANANT HARI KATHA ANANTA
KAHAHI SUNAHI BAHU VIDHI SAB SANTA
RAM SIYA RAM SIAY RAM JAI JAI RAM

BHID PADI JAB BHAKT PUKARE
DUR KARO PRABHU DUKH HAMARE
DASHRATH KE GHAR JANME RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(1)

VISHWAMITRA MUNISHVAR AAYE
DASHRATH BHUP SE VACHAN SUNAYE
VAN ME BHEJE LAXMAN RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(2)

VAN ME JAYE TADKA MARI
CHARAN CHUAE AHILIYA TARI
RISHIYON KE DUKH HARTE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(3)

JANAKPURI RAGHUNANDAN AAYE
NAGAR NIVASI DARSHAN PAAYE
SITA KE MANN BHAAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(4)

RAGHUNANDAN NE DHANUSH CHDHAYA
SAB RAJO KA MAAN GHATYA
SITA NE VAR PAAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(5)

PARSHURAM KRODHIT HO AAYE
DUSHT BHUP MANN ME HARSHAYE
JANAKRAI NE KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(6)

BOLE LAKHAN SUNO MUNI GYANI
SANT NAHI HOTE ABHIMANI
MITHI VANI BOLE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(7)

LAXMAN VACHAN DHYAN MAT DIJO
JO KUCH DAND DAS KO DIJO
DHANUSH TORAIYA MAIN HU RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(8)

LEKAR KE YAH DHANUSH CHADHAO
APNI SHAKTI MUJHE DIKHAO
CHOOAT CHAAP CHADHAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(9)

HUI URMILA LAKHAN KI NARI
SHRUTIKIRTI RIPU SUDHAN PIYARI
HUI MANDAVI BHARAT KE VAAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(10)

AVADHPURI RAGHUNANDAN AAYE
GHAR GHAR NARI MANGAL GAAYE
BARAH VARASH BITAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(11)

GURU VASHISHT SE AGYA LINI
RAJTILAK TAIYARI KINI
KALKO HONGE RAJA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(12)

KUTIL MANTHARA NE BEHKAI
KAIKAI NE YEH BAAT SUNAYEE
DE DO MERE DO VARDAN
PATIT PAWAN SITA RAM……(13)

MERI VINATI TUM SUN LIJO
BHARAT PUTRA KO GADDI DIJO
HOT PRAT VAN BHEJO RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…..(14)

DHARNI GIRE BHUP TATKALA
LAGA DIL MEIN SHOOL VISHALA
TAB SUMANT BULVAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(15)

RAM PITA KO SHISH NAVAYE
MUKH SE VACHAN KAHA NAHI JAAYE
KAIKAI VACHAN SUNIYO RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(16)

RAJA KE TUM PRAN PIYARE
INKE DUKH HAROGE SAARE
AB TUM VAN ME JAO RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(17)

VAN ME CHAUDAH VARASH BITAO
RAGHUKUL RITI NITI APNAO
AAGE ICHCHA TERI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(18)

SUNAT VACHAN RAGHAV HARSHAYE
MATAJI KE MANDIR AAYE
CHARAN KAMAL ME KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(19)

MATAJI MAIN TO VAN JAOON
CAUDAH VARASH BAD FIR AAOON
CHARAN KAMAL DEKHU SUKH DHAAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(20)

SUNI SHUL SAM JAB YEH BANI
BHU PAR GIRI KAUSHALYA RANI
DHIRAJ BANDHA RAHE SHRI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(21)

SITAJI JAB YEH SUN PAYEE
RANGMAHAL SE NICHE AAYEE
KAUSHALYA KO KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(22)

MERI CHUK KSHAMA KAR DIJO
VAN JAANE KI AGYA DIJO
SITA KO SAMJHATE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(23)

MERI SIKH SIYA SUN LIJO
SAAS SASUR KI SEVA KIJO
MUJHKO BHI HOGA VISHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM……(24)

MERA DOSH BATA PRABHU DIJO
SANG MUJHE SEVA ME LIJO
ARDHANGINI TUMHARI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(25)

SAMACHAR SUNI LAXMAN AAYE
DHANUSH BAN SANG PARAM SUHAYE
BOLE SANG CHALUNGA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…….(26)

RAM LAKHAN MITHILESH KUMARI
VAN JANE KI KARI TAIYARI
RATH ME BAITH GAYE SUKHDHAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(27)

AVADHPURI KE SAB NAR NARI
SMACHAR SUNI VYAKUL BHARI
MACHA AVADH ME ATI KOHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(28)

SHRINGHVERPUR RAGHUVAR AAYE
RATH KO AVADHPURI LOTAYE
GANGA TAT PAR AAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(29)

KEVATH KAHE CHARAN DHULVAAO
PICHE NAUKA ME CHADH JAAO
PATTHAR KAR DI NARI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(30)

LAYA EK KATHORA PAANI
CHARAN KAMAL DHOYE SUKH MAANI
NAV CHADHAYE LAXMAN RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(31)

UTRAI ME MUDRI DINI
KEVATH NE YEH BINATI KINI
UTRAI NAHI LUNGA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……..(32)

TUM AAYE HUM GHAT UTARE
HUM AYENGE GHAT TUMHARE
TAB TUM PAR LAGAO RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(33)

BHARATWAJ ASHRAM PAR AAYE
RAMLAKHAN NE SHISH NAVAYE
EK RAT KINHA VISHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(34)

BHAI BHARAT AYODHYA AAYE
KAIKAI KO KATU VACHAN SUNAYE
KYUN TUMNE VAN BHEJE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(35)

CHITRAKUT RAGHUNANDAN AAYE
VAN KO DEKH SIYA SUKH PAAYE
MILE BHARAT SE BHAI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(36)

AVADHPURI KO CHALIYE BHAI
YEH SAB KAI KAI KI KUTILAI
TANIK DOSH NAHI MERA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(37)

CHARAN PADUKA TUM LE JAO
POOJA KAR DARSHAN PHAL PAO
BHARAT KO KANTH LAGAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(38)

AAGE CHALE RAM RAGHURAYA
NISHACHARO KA VANSH MITAYA
RISHIYON KE HUE PURAN KAAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(39)

ANSUIYA KI KUTIYA AAYE
DIVYA VASTRA SIYA MAA NE PAAYE
THA MUNI ATRI KA VAH DHAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(40)

MUNISTHAN AAYE RAGHURAI
SHURPANKHA KI NAAK KATAI
KHARDUSHAN KO MARE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(41)

PANCHVATI RAGHUNANDAN AAYE
KANAK MRIG MARICH SANG DHAYE
LAXMN TUMHE BULATE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(42)

RAVAN SADHU VESH ME AAYA
BHUKH NE MUJHKO BAHOT SATAYA
BHIKSHA DO YEH DHARAM KA KAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(43)

BHIKSHA LEKAR SITA AAYI
HATH PAKAD RATH ME BETHAI
SUNI KUTIYA DEKHI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(44)

DHARNI GIRE RAM RAGHURAI
SITA KE BIN VYAKULTAI
HEY PRIYE SITE CHIKHE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(45)

LAXMAN SITA CHOD NAHI AATE
JANAK DULARI NAHI GAVATE
BANE BANAYE BIGDE KAAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(46)

KOMAL BADAN SUHASINI SITE
TUM BIN VYARTH RAHENGE JITE
LAGE CHANDANI JAISE GAAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(47)

SUNRI MAINA SUN RE TOTA
MAIN BHI PANKHO WALA HOTA
VAN VAN LETA DHUNDH TAMAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(48)

SHYAMA HIRNI TU HI BATADE
JANAK NANDINI MUJHE MILA DE
TERE JAISI AANKHEIN SHYAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(49)

VAN VAN DHUNDH RAHE RAGHURAI
JANAK DULARI KAHI NA PAYI
GIDRAJ NE KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(50)

CHAKH CHAKH KARPHAL SHABRI LAAYI
PREM SAHIT KHAYE RAGHURAI
AISE MITHE NAHI HAI AAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………..(51)

VIPRA ROOP DHARI HANUMAT AAYE
CHARAN KAMAL ME SHISH NAVAYE
KANDHE PAR BAITHAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(52)

SUGRIV SE KARI MILAI
APNI SARI KATHA SUNAI
BALI PAHUCHAYA NIJ DHAM
PATIT PAWAN SITA RAM……………(53)

SINGHASAN SUGRIV BITHAYA
MANN ME VEH ATI HARSHAYA
VARSHA RITU AAYEE HAI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(54)

HE BHAI LAXMN TUM JAO
VANARPATI KO YUN SAMJHAO
SITA BIN VYAKUL HAI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(55)

DESH DESH VANAR BHIJVAYE
SAGAR KE SAB TAT PAR AAYE
SEHTE BHUKH PYAS OR GAAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(56)

SAMPATI NE PATA BATAYA
SITA KO RAVAN LE AAYA
SAGAR KUD GAYE HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM…………(57)

KONE KONE PATA LAGAYA
BHAGAT VIBHISHAN KA GHAR AAYA
HANUMAN NE KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(58)

ASHOK VATIKA HANUMAT AAYE
VRIKSH TALE SITA KO PAAYE
AANSU BARSE ANTHO YAAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(59)

RAVAN SANG NISHICHAR LAKE
SITA KO BOLA SAMJHAKE
MERI AUR TO DEKHO BHAAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(60)

MANDODARI BANADU DASI
SAB SEVA ME LANKA VASI
KARO BHAVAN CHALKAR VISHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(61)

CHAHE MASTAK KATE HAMARA
MAIN NAHI DEKHU BADAN TUMHARA
MERE TAN MANN DHAN HAI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(62)

UPAR SE MUDRIKA GIRAI
SITAJI NE KANTH LAGAI
HANUMAN NE KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(63)

MUJHKO BHEJA HAI RAGHURAYA
SAGAR KUD YANHA MAIN AAYA
MAIN HU RAMDAS HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM………(64)

BHUKH LAGI PHAL KHANA CHAHU
JO MATA KI AAGYA PAAOO
SAB KE SWAMI HAI SHRI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(65)

SAVDHAN HOKAR PHAL KHANA
RAKHWALO KO BHUL NA JANA
NISHACHARO KA HAI YEH DHAAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(66)

SHRI HANUMAT NE VRIKSH UKHADE
DEKH DEKH MALI LALKARE
MAR MAR PAHUCHAYA DHAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(67)

AKSHAYKUMAR KO SWARG PAHUCHAYA
INDRAJIT PHANSI LE AAYA
BRAHMAPASS ME BANDHE HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM……….(68)

SITA KO TUM LOTA DIJO
UNSE KSHAMA YACHNA KIJO
TEEN LOK KE SWAMI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(69)

BHAGAT VIBHISHAN NE SAMJHAYA
RAVAN NE USKO DHAMKAYA
SANMUKH DEKH RAHE HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM……….(70)

RUI TEL GRIT BASAN MANGAI
POONCH BANDH KAR AAG LAGAI
POONCH GHUMAI HAI HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM……….(71)

SAB LANKA MEINAAG LAGAI
SAGAR ME JA POONCH BUJHAI
HRIDAY KAMAL ME RAKHE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(72)

SAGAR KUD LOT KAR AAYE
SAMACHAR RAGHUVAR NE PAAYE
JO MANGA SO DIYA INAAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(73)

VANAR RINCH SANG ME LAAYE
LAXMAN SAHIT SINDHU TAT AAYE
LAGE SUKHANE SAGAR RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(74)

SETU KAPI NAL NEEL BANAVE
RAM RAM LIKH SHILA TIRAVE
LANKA PAHUNCHE RAJARAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(75)

ANGAD CHAL LANKA ME AAYA
SABHA BICH ME PAAV JAMAYA
BALI PUTRA MAHA BALDHAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(76)

RAVAN PAAV HATANE AAYA
ANGAD NE PHIR PAAV UTHAYA
KSHAMA KARE TUJHKO SHRI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(77)

NISHACHARO KI SENA AAYEE
GARAJ GARAJ KAR HUI LADAI
VANAR BOLE JAI SIYA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(78)

INDRAJIT NE SHAKTI CHALAI
DHARNI GIRE LAKHAN MURJAI
CHINTA KARKE ROYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(79)

JAB ME AVADHPURI SE AAYA
HAAY PITA NE PRAN GAVAYA
VAN MEIN GAI CHURAI BHAAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(80)

BHAI TUMNE BHI CHITKAYA
JIVAN ME KUCH SUKH NAHI PAYA
SENA ME BHARI KOHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(81)

JO SANJIVNI BUTI LAAYE
TO BHAI JIVIT HO JAAYE
BUTI LAYEGA HANUMAN
PATIT PAWAN SITA RAM………..(82)

JAB BUTI KA PATA NA PAAYA
PARVAT HI LEKAR KE AAYA
KALNEEM PAHUCHAYA DHAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(83)

BHAKT BHARAT NE BAAN CHALAYA
CHOT LAGI HANUMAT LANGDAYA
MUKH SE BOLE JAI SIYA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(84)

BOLE BHARAT BAHOT PACHTAKAR
PARVAT SAHIT BAAN BAITHAKAR
TUMHE MILADU RAJA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(85)

BUTI LEKAR HANUMAT AAYA
LAKHAN LAL UTH SHISH NAVAYA
HANUMAT KANTH LAGAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(86)

KUMBHKARAN UTHKAR TAB AAYA
EK BA SE USE GIRAYA
INDRAJIT PAHUCHAYA DHAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(87)

DURGA PUJAN RAVA KINO
NAU DIN TAK AAHAR NA LINO
AASAN BETH KIYA HAI DHYAN
PATIT PAWAN SITA RAM…………(88)

RAVAN KA VRAT KHANDIT KINA
PARAM DHAM PAHUCHA HI DINA
VANAR BOLE JAI SIYA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(89)

SITA NE HARI DARSHAN KINA
CHINTA SHOK SABHI TAJ DINA
HANSKAR BOLE RAJA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(90)

PEHLE AGNIPARIKSHA PAAO
PICHE NIKAT HAMARE AAO
TUM HO PATI VRATA HAI BHAAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(91)

KARI PARIKSHA KANTH LAGAI
SAB VANAR SENA HARSHAYEE
RAJ VIBHISHAN DINA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(92)

PHIR PUSHPAK VIMAN MANGAYA
SITA SAHIT BAITHE RAGHURAYA
DANDAK VAN ME UTRE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(93)

RISHIVAR SUN DARSHAN KO AAYE
STUTI KAR WO MANN ME HARSHAYE
TAB GANGA TAT AAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(94)

NANDIGRAM PAVAN SUT AAY
BHAGAT BHARAT KO VACHAN SUNAYE
LANKA SE AAYE HAI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(95)

KAHO VIPRA TUM KAHA SE AAYE
AISE MITHE VACHAN SUNAYE
MUJHE MILA DO BHAIYA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(96)

AVADHPURI RAGHUNANDAN AAYE
MANDIR MANDIR MANGAL CHAYE
MATAO KO KIYA PRANAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(97)

BHAI BHARAT KO GALE LAGAYA
SINGHASAN BAITHE RAGHURAYA
JAG NE KAHA HAI RAJA RAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………(98)

SAB BHUMI VIPRO KO DINI
VIPRO NE YEH VAPAS DE DINI
HUM TO BHAJAN KARENGE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(99)

DHOBI NE DHOBAN DHAMKAI
RAMCHANDRA NE YEH SUN PAAYI
VAN ME SITA BHEJI RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………….(100)

VALMIKI ASHRAM ME AAYEE
LUV V KUSH HUE DO BHAI
DHIR VEER GYANI BALVAN
PATIT PAWAN SITA RAM……….(101)

ASHVAMEGH KINHA RAMA
SITA BIN SAB SUNE KAMA
LUVKUSH VAHA LIYO PEHCHAN
PATIT PAWAN SITA RAM………(102)

SITA RAM BINA AKULAI
BHUMI SE YEH BINAY SUNAI
MUJHKO AB DIJO VISHRAM
PATIT PAWAN SITA RAM………(103)

SITA BHUMI MAI SAMAI
DEKH KE CHINTA KI RAGHURAI
BAR BAR PACHTAYE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(104)

RAM RAJ ME SAB SUKH PAAVE
PREM MAGAN BOLE HARI GUN GAAVE
DUKH KALESH KA RAHA NA NAAM
PATIT PAWAN SITA RAM……….(105)

GYARAH HAZAR VARASH PARIYANTA
RAJ KINH SHRI LAXMIKANTA
PHIR VAIKUNTH PADHARE RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(106)

AVADHPURI VAIKUNTH SIDHAI
NARNARI SAB NE GATI PAYEE
SHARNAGAT PRATIPALAK RAM
PATIT PAWAN SITA RAM………..(107)

SAB BHAKTO NE LILA GAAYEE
MERI BHI VINAY SUNO RAGHURAI
BHULU NAHI TUMHARA NAAM
PATIT PAWAN SITA RAM…………..(108)

जगजीवन, जगपति, जग दाता, जय श्री कृष्ण

रत्न जटित आभूषण सुन्दर, जय श्री राधा
कौस्तुभमणि कमलांचित नटवर, जय श्री कृष्ण
जग ज्योति, जगजननी माता, जय श्री रा्धा
जगजीवन, जगपति, जग दाता, जय श्री कृष्ण

Tuesday, 28 June 2011

हनुमान साठिका

हनुमान साठिका 

जय जय जय हनुमान अड़न्गी | महावीर विक्रम बजरंगी ||1 
जय कपीश जय पवन कुमारा | जय जय वंदन शील अगारा ||2 
जय आदित्य अमर अविकारी | अरि मरदन जय जय गिरधारी ||3 
अंजनी उदर जन्म तुम लीन्हो | जय जय कार देवतन कीन्हो ||4 
बाजै दुंदिभी गगन गंभीरा | सुर मन हरष असुर मन पीरा ||5 
कपि के डर गढ़ लंक समानी | छूटि बंदि देव तन जानी ||6 
ऋषी समूह निकट चलि आये | पवन तनय के पद सिर नाए |7 
बार बार स्तुति कर नाना | निर्मल नाम धरा हनुमाना ||8 
सकल ऋषिन मिलि अस मत ठाना | दीन बताये लाल फल खाना ||9 
सुनत वचन कपि मन हर्षाना | रवि रथ उदय लाल फल जाना ||10 
रथ समेत कपि कीन्ह अहारा | सूर्य बिना भयो अति अँधियारा ||11 
विनय तुम्हार करैं अकुलाना | तब कपीश की स्तुति ठाना ||12 
सकल लोक वृतांत सुनावा | चतुरानन तब रवि उगिलावा ||13 
कहा बहोरि सुनहु बलशीला | रामचन्द्र करिहैं बहु लीला || 14 
तब तुम उनकर करब सहाई | अबहि बसहु कानन में जाई ||15 
असि कहि विधि निज लोक सिधारे | मिले सखा संग पवन कुमारे ||16 
खेलें खेल महा तरु तोड़ें | ढेर करें बहु पर्वत फौड़ें ||17 
जेहि गिरि चरण देहि कपि धाई | गिरि समेत पातालाहिं जाई ||18 
कपि सुग्रीव बाली की त्रासा | निरखत रहे राम मगु आशा ||19 
मिले राम तँह पवन कुमारा | अति आनंद सप्रेम दुलारा ||20 
मणि मुंदरी रघुपति सो पाई | सिया खोज ले चलि सिर नाई ||21 
सत जोजन जल निधि विस्तारा | अगर अपार देवतन हारा |22 
जिमि सर गोखुर सरिस कपीशा | लाँघि गए कपि कहि जगदीशा ||23 
सीता चरण शीश तुम नाए | अजर अमर के आशिष पाए ||24 
रहे दनुज उपवन रखवारी | एक से एक महाभट भारी ||25 
तिन्हे मारि पुनि कहेउ कपीसा | दहेऊ लंक कोप्यो भुज बीसा ||26 
सिया बोध दै पुनि फिर आये | रामचंद्र के पाद सिर नाए ||27 
मेरु उपार आप छिन माहीं | बांध्यो सेतु निमिष एक मांही ||28 
लक्ष्मण शक्ति लागी जबहीं | राम बुलाय कहा पुनि तबहीं ||29 
भवन समेत सुषेण को लाये | तुरत संजीवन को पुनि धाये ||30 
मग मँह कालनेमि को मारा | अमिट सुभट निशचर संहारा ||31 
आनि संजीवन गिरि समेता | धरि दीन्हो जंह कृपानिकेता ||32 
फनपति केर शोक हरि लीन्हा | हरषि सुरन सुर जय जय कीन्हा ||33 
अहिरावन हरि अनुज समेता | लै गयो तहाँ पाताल निकेता ||34 
जहां रहे देवी अस्थाना | दीन चहै बलि काढि कृपाना ||35 
पवन तनय प्रभु कीन गुहारी | कटक समेत निशाचर मारी ||36 
रीछ कीशपति सबै बहोरी | राम लखन कीने एक ठौरी ||37 
सब देवतन की बंदि छूडाये| सो कीरति नारद मुनि गाये ||38 
अक्षय कुमार को मार संहारा | लूम लपेटी लंक को जारा ||39 
कुम्भकरण रावण को भाई | ताहि निपाति कीन्ह कपिराई ||40 
मेघनाद पर शक्ति मारा | पवन तनय सब सो बरियारा ||41 
तंहा रहे नारान्तक जाना | पल में हते ताहि हनुमाना ||42 
जंह लगि मान दनुज कर पावा | पवन तनय सब मारि नसावा |43| 
जय मारुत सूत जय अनुकूला | नाम कृशानु शोक सम तूला || 44 
जंह जीवन पर संकट होई | रवि तम सम सो संकट खोई ||45 
बंदी परै सुमरि हनुमाना | संकट कटे धरे जो ध्याना |46 
यम को बांधि वाम पाद लीन्हा | मारुतसुत व्याकुल सब कीन्हा ||47 
सो भुज बल को दीन्ह कृपाला | तुम्हरे होत मोर यह हाला ||48 
आरत हरण नाम हनुमाना | सादर सुरपति कीन्ह बखाना ||49 
संकट रहे न एक रती को | ध्यान धरे हनुमान जती को ||50 
धावहु देख दीनता मोरी | कहौ पवनसुत युग कर जोरी ||51 
कपिपति बेगि अनुग्रह करहूँ | आतुर आय दुसह दुःख हरहूँ ||52 
राम सपथ मैं तुमहि सुनावा | जवन गुहार लाग सिय जावा ||53 
 शक्ति तुम्हार सकल जग जाना | भव बंधन भंजन हनुमाना ||54 
यह बंधन कर केतिक बाता | नाम तुम्हार जगत सुख दाता ||55 
करौ कृपा जय जय जग स्वामी | बारि अनेक नमामि नमामी ||56 
भौमवार करि होम विधाना | धूप दीप नैवेद्य सुजाना ||57 
मंगल दायक को लौ लावे | सुर नर मुनि वांछित फल पावै ||58 
जयति जयति जय जय जग स्वामी | समरथ पुरुष सुअंतर जामी ||59 
अंजनि तनय नाम हनुमाना | सो तुलसी के प्राण समाना || 60 

 दोहा : 

जय कपीश सुग्रीव तुम, जय अंगद हनुमान | 
राम लखन सीता सहित, सदा करौ कल्याण || 
वन्दौ हनुमत नाम यह, भौमवार परमान | 
ध्यान धरे नर निश्चय, पावै पाद कल्याण || 
पढ़े जो नित यह साठिका , तुलसी कहें विचार | 
रहै न संकट ताहि को, साक्षी है त्रिपुरार ||

मै तो कहता हर पल, हर वार तुम्हारा है...

कोइ कहता मंगलवार, शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल, हर वार तुम्हारा है... 
*जय हनुमान* 
!*!जय सियाराम, जय सियाराम!*!

संजीवनी लेकर चले हनुमान

संजीवनी लेकर चले हनुमान,
उठाया पहाड़,
बोले जय श्रीराम!!  

श्री बजरंग बाण


    

Sindur chadane se har kaam hota hai

Hanuman ko khush karna aasaan hota hai 
Sindur chadane se har kaam hota hai!

बुद्धिहीन तनु जान के, सुमिरै पवन कुमार,

बुद्धिहीन तनु जान के, सुमिरै पवन कुमार,
बल बुद्धि विद्या देहु मोहे हरहु क्लेश विकार !
सियावर राम जय जय राम !
करो कल्याण जय जय राम !

Monday, 27 June 2011

Om mein hai AASTHA

Om mein hai AASTHA
Om mein hai VISHWASH
Om mein hai SANSAAR
Om mein hai SHAKTI
Om mein hai BHAKTI
Om se hoti hai AACHHE din ki SURUWATH.

YOU SAY GOD SAYS

YOU SAY GOD SAYS
You say: "It's impossible" God says: All things are possible
You say: "I'm too tired" God says: I will give you rest
You say: "Nobody really loves me" God says: I love you
You say: "I can't go on" God says: My grace is sufficient
You say: "I can't figure things out" God says: I will direct your steps
You say: "I can't do it" God says: You can do all things
You say: "I'm not able" God says: I am able
You say: "It's not worth it" God says: It will be worth it
You say: "I can't forgive myself" God says: I Forgive you
You say: "I can't manage" God says: I will supply all your needs
You say: "I'm afraid" God says: I have not given you a spirit of fear
You say: "I'm always worried and frustrated" God says: Cast all your cares on ME
You say: "I'm not smart enough" God says: I give you wisdom
You say: "I feel all alone" God says: I will never leave you or forsake my . child

ॐ नमः शिवाय OM NAMAH SHIVAYA

ॐ नमः शिवाय OM NAMAH SHIVAYA
शिवाय नम: ॐ SHIVAYA NAMAH OM
ॐ महेश्वराय नमः OM MAHESVARAYA NAMAH
ॐ नमो भगवते रुद्राय OM NAMO BHAGAVATE RUDRAYA

Saturday, 25 June 2011

The Shaneeswara Mantra

The Shaneeswara Mantra :
Suryaputhro Deerghadeho Vishaalaakshah Shivapriyah |
Mandachaarah Prasannathmaa peedam harathu me Shanih ||

सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालाक्षः शिवप्रियः।
मन्दचारः प्रसन्नात्मा पीडां हरतु मे शनिः ॥

श्री शनि देव जी

नीलांजन समाभासं रवि पुत्रां यमाग्रजं।
छाया मार्तण्डसंभूतं तं नामामि शनैश्चरम्॥

Om Neelaanjan, Samabhaasam,
Raviputram, Yamaagrajam!
Chhaya martand, Sambhutam,
Tam namami shaneshcharam!!

Oh, Blue-bodied, looking like shadow of the sky, son of the Lord Sun, the younger brother of Lord Yama (the God of death), you are the son of mother Chhaya, I bow my head to you, Lord Shani!

ॐ शं शनैश्चराय नम:

ॐ शं शनैश्चराय नम: 
ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनये नम:
ॐ शन्नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शंजोरभिस्त्रवन्तुन:

neelanjan samabhasam raviputram yamagrajam

neelanjan samabhasam raviputram yamagrajam
chaaya martandya sambhootam tamnamami shaneshcharam:

शनिदेव चालीसा


शनिदेव चालीसा 

दोहा
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।
दीनन के दुःख दूर करि , कीजै नाथ निहाल ॥1॥
जय जय श्री शनिदेव प्रभु , सुनहु विनय महाराज ।
करहु कृपा हे रवि तनय , राखहु जन की लाज ॥2॥

जयति जयति शनिदेव दयाला । करत सदा भक्तन प्रतिपाला ॥
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै । माथे रतन मुकुट छवि छाजै ॥
परम विशाल मनोहर भाला । टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला ॥
कुण्डल श्रवन चमाचम चमके । हिये माल मुक्तन मणि दमकै ॥
कर में गदा त्रिशूल कुठारा । पल बिच करैं अरिहिं संहारा ॥
पिंगल, कृष्णो, छाया, नन्दन । यम, कोणस्थ, रौद्र, दुःख भंजन ॥
सौरी, मन्द शनी दश नामा । भानु पुत्र पूजहिं सब कामा ॥
जापर प्रभु प्रसन्न हवैं जाहीं । रंकहुं राव करैं क्षण माहीं ॥
पर्वतहू तृण होइ निहारत । तृणहू को पर्वत करि डारत ॥
राज मिलत वन रामहिं दीन्हयो । कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो ॥
वनहुं में मृग कपट दिखाई । मातु जानकी गई चुराई ॥
लषणहिं शक्ति विकल करिडारा । मचिगा दल में हाहाकारा ॥
रावण की गति-मति बौराई । रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई ॥
दियो कीट करि कंचन लंका । बजि बजरंग बीर की डंका ॥
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा । चित्र मयूर निगलि गै हारा ॥
हार नौलखा लाग्यो चोरी । हाथ पैर डरवायो तोरी ॥
भारी दशा निकृष्ट दिखायो । तेलहिं घर कोल्हू चलवायो ॥
विनय राग दीपक महँ कीन्हयों । तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों ॥
हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी । आपहुं भरे डोम घर पानी ॥
तैसे नल पर दशा सिरानी । भूंजी-मीन कूद गई पानी ॥
श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई । पारवती को सती कराई ॥
तनिक विकलोकत ही करि रीसा । नभ उड़ि गतो गौरिसुत सीसा ॥
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी । बची द्रोपदी होति उधारी ॥
कौरव के भी गति मति मारयो । युद्ध महाभारत करि डारयो ॥
रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला । लेकर कूदि परयो पाताला ॥
शेष देव-लखि विनती लाई । रवि को मुख ते दियो छुड़ाई ॥
वाहन प्रभु के सात सुजाना । जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना ॥
जम्बुक सिह आदि नख धारी । सो फल ज्योतिष कहत पुकारी ॥
गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं । हय ते सुख सम्पत्ति उपजावै ॥
गर्दभ हानि करै बहु काजा । सिह सिद्ध्कर राज समाजा ॥
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै । मृग दे कष्ट प्राण संहारै ॥
जब आवहिं स्वान सवारी । चोरी आदि होय डर भारी ॥
तैसहि चारि चरण यह नामा । स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा ॥
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं । धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं ॥
समता ताम्र रजत शुभकारी । स्वर्ण सर्वसुख मंगल भारी ॥
जो यह शनि चरित्र नित गावै । कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै ॥
अद्भुत नाथ दिखावैं लीला । करैं शत्रु के नशि बलि ढीला ॥
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई । विधिवत शनि ग्रह शांति कराई ॥
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत । दीप दान दै बहु सुख पावत ॥
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा । शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा ॥

॥ दोहा ॥
पाठ शनिश्चर देव को, की हों 'भक्त' तैयार ।
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार ॥

Sri Shanidev Chalisa

Sri Shanidev Chalisa



Doha
Jai Ganesh Girija Suwan, Mangal Karan Krupaal.
Deenan Ke Dhuk Dhoor Kari, Kheejai Naath Nihaal!!
Jai Jai Sri Shanidev Prabhu, Sunahu Vinay Maharaaj
Karahu Krupa Hey Ravi Thanay, Rakhahu Jan Ki Laaj!!


Jayathi Jayathi Shani Dayaala,
Karath Sadha Bhakthan Prathipaala.
Chaari Bhuja, Thanu Shyam Viraajai,
Maathey Rathan Mukut Chavi Chaajai.
Param Vishaal Manohar Bhaala,
Tedi Dhrishti Bhrukuti Vikraala.
Kundal Shravan Chamaacham Chamke,
Hiye Maal Mukthan Mani Dhamkai.

Kar Me Gadha Thrishul Kutaara,
Pal Bich Karai Arihi Samhaara.
Pinghal, Krishno, Chaaya, Nandhan,
Yum, Konasth, Raudra, Dhuk Bhamjan.

Sauri, Mandh Shani, Dhasha Naama,
Bhanu Puthra Poojhin Sab Kaama.
Jaapar Prabu Prasan Havain Jhaahin,
Rakhhun Raav Karai Shan Maahin.

Parvathhu Thrun Hoi Nihaarath,
Thrunhu Ko Parvath Kari Daarath.
Raaj Milath Ban Raamhin Dheenhyo,
Kaikeyihu Ki Mathi Hari Linhiyo.

Banhu Mae Mrug Kapat Dhikaayi,
Maathu Janki Gayi Churaayi.
Lashanhin Shakthi Vikal Kari Daara,
Machiga Dhal Mae Haahaakaar.

Raavan Ki Ghathi-Mathi Bauraayi,
Ramchandra Soan Bair Badaayi.
Dhiyo Keet Kari Kanchan Lanka,
Baji Bajarang Beer Ki Danka.

Nrup Vikram Par Thuhin Pagu Dhaara,
Chitra Mayur Nigli Gai Haara.
Haar Naulakka Laagyo Chori,
Haath Pair Darvaayo Thori.

Bhaari Dhasha Nikrusht Dhikaayo
Thelhin Ghar Kholhu Chalvaayo.
Vinay Raag Dheepak Mah Khinhayo,
Thab Prasann Prabhu Hvai Sukh Dheenhayo.

Harishchandrahun Nrup Naari Bhikani,
Aaphun Bharen Dome Gar Paani.
Thai nal par dasha sirani'
Bhunji-Meen Koodh Gayi Paani.

Sri Shankarhin Gahyo Jab Jaayi,
Paarvathi Ko Sathi Karaayi.
Thanik Vilokath Hi Kari Reesa,
Nabh Udi Gayo Gaurisuth Seesa.

Paandav Par Bhay Dasha Thumhaari,
Bachi Draupadhi Hothi Udhaari.
Kaurav Ke Bi Gathi Mathi Maaryo,
Yudh Mahabharath Kari Daryo.

Ravi Kah Mukh Mahn Dhari Thathkala,
Lekar Koodhi Paryo Paathaala.
Sesh Dhev-Lakhi Vinthi Laayi,
Ravi Ko Mukh Thay Dhiyo Chudaayi.

Vaahan Prabhu Kay Sath Sujana,
Juj Dhigaj Gadharbh Mrugh Swaana.
Jambuk Sinh Aadhi Nakh Dhari,
So Phal Jyothish Kahath Pukari.

Gaj Vahan Lakshmi Gruha Aavai,
Hay Thay Sukh Sampathi Upjaavai.
Gadharbh Haani Karai Bahu Kaaja,
Sinha Sidhkar Raaj Samaja.

Jhambuk Budhi Nasht Kar Darai,
Mrug Dhe Kasht Praan Samharai.
Jab Aavahi Prabu Svan Savaari,
Choru Aaadhi Hoy Dar Bhaari.

Thaishi Chaari Charan Yuh Naama,
Swarn Laoh Chaandhi Aru Thama.
Lauh Charan Par Jab Prabu Aavain,
Daan Jan Sampathi Nashta Karavain.

Samatha Thaamra Rajath Shubhkari ,
Swarn Sarva Sarva Sukh Mangal Bhaari.
Jo Yuh Shani Charithra Nith Gavai,
Kabahu Na Dasha Nikrushta Sathavai.

Adhbuth Nath Dhikavain Leela,
Karain Shatru Kay Nashi Bhali Deela.
Jo Pundith Suyogya Bulvaayi
Vidhvath Shani Gruha Shanthi Karayi.

Peepal Jal Shani Diwas Chadavath,
Deep Dhaan Dhai Bahu Sukh Pawath.
Kahath Raam Sundhar Prabu Dhasa,
Shani Sumirath Sukh Hoth Prakasha.

Doha
Path Shanishchar Dev Ko, Ki Ho Bhakt Taiyaar,
Karat Path Chalis Din, Ho Bhavasaagar Paar.

Friday, 24 June 2011

Allah Hoo, Allah Hoo

Allah Hoo, Allah Hoo


maalikul mulk la shariika lahu
vaahdahu la ilaaha illa hu
Shams Tabrez gar Khuda talaabi
khusbuukhaaN la ila illa hu

Kaunain ka masjuud hai maabuud hai tu
har shai terii shaahid hai ke mash’uud hai tu
har ek ke lab par hai terii hamd-o-sanaa
har soz meN har saaz meN maujuud hai tu

tere hi naam se har ibtida hai
tere hi naam tak har intiha hai
terii hamd-o-sanaa, alhumdulillah
ke tuu mere Muhammad kaa Khudaa hai

Allah hu Allah hu
Allah hu Allah hu

ye zamiin jab na thi, ye jahaaN jab na tha
chaaNd suraj na the, aasmaaN jab na tha
raaz-e-haq bhii kisii par ayaaN jab na tha
jab na tha kuch yahaaN, tha magar tu hi tu

pahuNche meraj meN arsh tak Mustafa
jab na maabuud-o-bande meN pardaa raha
tab malaik ne Hazrat se chhup kar kaha
saarii maKhluq meN haq-numaa tu hi tu

kyuuN piyaa ibn-e-Haider ne jaam-e-fana?
Khaal khichvaa’ii Tabrez ne kyuN bhala?
daar par chaRh kar Mansoor ne kya kaha?
sab bana ke khilone raha tu hi tu

Khaaliq-e-kul hai tuu ismeN kyaa guftugu
saare aalam ko hai teri hi justuju
teri jalvaagarii hai ayaaN chahaar-su
laa sharika lahu, maalik-e-mulk tu

har shai tere jamaal kii aaina-daar hai
har shai pukaarti hai tu parvardigaar hai

teri rabuubiyat kii adaa ko kamaal hai
tu rabb-e-qaaynaat hai, tu laa-zavaal hai

tu jo har aan nayii shaan dikha deta hai
diidaa-e-shauq ko hairaaan bana deta hai
Daalii Daalii terii takhliiq ke gun gaati hai
pattaa pattaa terii qudrat kaa pata deta hai

laa ilaahaa terii shaan yaa! vaadahuu
tu Khayaal-o-tajassus, tuu hii aarzu
aaNkh kii roshnii, dil ki aavaaz
tha bhii tu, hai bhi tu, hogaa bhii tu

Wohi Khuda Hai

Wohi Khuda Hai
Koi to hai jo, nizaam-e-hasti
chala raha hai, wohi khuda hai
Koi to hai jo, nizaam-e-hasti
Chala rahaa hai, wohi khuda hai

Dikhayi bhi jo na de nazar bhi
Jo aa raha hai, wohi khuda hai
wohi khuda hai, wohi khudaa hai
wohi khuda hai..

Nazar bhi rakhe, samaatein bhi
Woh jaan leta hai, neeatein bhi
Jo khana-e-lashaoor mein jagmaga raha hai
wohi khuda hai, wohi khudaa hai
wohi khudaa hai, wohi khudaa hai

Talash uss ko, na kar buttoun mein
woh hai badalti hui ruttoun mein
Jo din ko raat aur raat ko din
bana raha hai, wohi khuda hai
wohi khuda hai, wohi khudaa hai
wohi khudaa hai...

Koi to hai jo, nizaam-e-hasti
chala raha hai, wohi khuda hai
Dikhayi bhi jo na de nazar bhi
Jo aa raha hai, wohi khuda hai
wohi khuda hai, wohi khudaa hai
wohi khuda hai..

Thursday, 23 June 2011

Brihaspativar (Guruvar) Vrat Vidhi and Katha

वृहस्पतिवार (गुरुवार) व्रत विधि

वृहस्पतिवार (गुरुवार) व्रत को करने से समस्त इच्छा पूर्ण होती है और वृहस्पतिदेव प्रसन्न होते है । धन, विद्या, पुत्र तथा मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। परिवार में सुख तथा शांति रहती है। इसलिये यह व्रत सर्वश्रेष्ठ और अतिफलदायक है।

वृहस्पतिवार (गुरुवार) व्रत में केले का पूजन करें। कथा और पूजन के समय मन, कर्म और वचन से शुद्घ होकर मनोकामना पूर्ति के लिये वृहस्पतिदेव से प्रार्थना करनी चाहिये। दिन में एक समय ही भोजन करें। भोजन चने की दाल आदि का करें, नमक न खा‌एं, पीले वस्त्र पहनें, पीले फलों का प्रयोग करें, पीले चंदन से पूजन करें। पूजन के बाद भगवान वृहस्पति की कथा सुननी चाहिये ।

वृहस्पतिवार(गुरुवार) व्रत कथा 

प्राचीन समय की बात है – एक बड़ा प्रतापी तथा दानी राजा था। वह प्रत्येक गुरुवार को व्रत रखता एवं पून करता था। यह उसकी रानी को अच्छा न लगता। न वह व्रत करती और न ही किसी को एक पैसा दान में देती। राजा को भी ऐसा करने से मना किया करती। एक समय की बात है कि राजा शिकार खेलने वन को चले ग‌ए। 

घर पर रानी और दासी थी। उस समय गुरु वृहस्पति साधु का रुप धारण कर राजा के दरवाजे पर भिक्षा मांगने आ‌ए। साधु ने रानी से भिक्षा मांगी तो वह कहने लगी, हे साधु महाराज । मैं इस दान और पुण्य से तंग आ ग‌ई हूँ। आप को‌ई ऐसा उपाय बता‌एं, जिससे यह सारा धन नष्ट हो जाये और मैं आराम से रह सकूं ।

साधु रुपी वृहस्पति देव ने कहा, हे देवी। तुम बड़ी विचित्र हो । संतान और धन से भी को‌ई दुखी होता है, अगर तुम्हारे पास धन अधिक है तो इसे शुभ कार्यों में लगा‌ओ, जिससे तुम्हारे दोनों लोक सुधरें। परन्तु साधु की इन बातों से रानी खुश नहीं हु‌ई। उसने कहा, मुझे ऐसे धन की आवश्यकता नहीं, जिसे मैं दान दूं तथा जिसको संभालने में ही मेरा सारा समय नष्ट हो जाये।

साधु ने कहा, यदि तुम्हारी ऐसी इच्छा है तो जैसा मैं तुम्हें बताता हूं तुम वैसा ही करना । वृहस्पतिवार के दिन तुम घर को गोबर से लीपना, अपने केशों को पीली मिट्टी से धोना, केशों को धोते समय स्नान करना, राजा से हजामत बनाने को कहना, भोजन में मांस मदिरा खाना, कपड़ा धोबी के यहाँ धुलने डालना । इस प्रकार सात वृहस्पतिवार करने से तुम्हारा समस्त धन नष्ट हो जायेगा । इतना कहकर साधु बने वृहस्पतिदेव अंतर्धान हो गये।

साधु के कहे अनुसार करते हु‌ए रानी को केवल तीन वृहस्पतिवार ही बीते थे कि उसकी समस्त धन-संपत्ति नष्ट हो ग‌ई । भोजन के लिये परिवार तरसने लगा । एक दिन राजा रानी से बोला, हे रानी । तुम यहीं रहो, मैं दूसरे देश को जाता हूँ, क्योंकि यहां पर मुझे सभी जानते है । इसलिये मैं को‌ई छोटा कार्य नही कर सकता। ऐसा कहकर राजा परदेश चला गया। वहां वह जंगल से लकड़ी काटकर लाता और शहर में बेचता। इस तरह वह अपना जीवन व्यतीत करने लगा।

इधर, राजा के बिना रानी और दासी दुखी रहने लगीं। एक समय जब रानी और दासियों को सात दिन बिना भोजन के रहना पड़ा, तो रानी ने अपनी दासी से कहा, हे दासी। पास ही के नगर में मेरी बहन रहती है । वह बड़ी धनवान है। तू उसके पास जा और कुछ ले आ ताकि थोड़ा-बहुत गुजर-बसर हो जा‌ए।

दासी रानी की बहन के पास ग‌ई । उस दिन वृहस्पतिवार था । रानी का बहन उस समय वृहस्पतिवार की कथा सुन रही थी । दासी ने रानी की बहन को अपनी रानी का संदेश दिया, लेकिन रानी की बहन ने को‌ई उत्तर नहीं दिया । जब दासी को रानी की बहन से को‌ई उत्तर नहीं मिला तो वह बहुत दुखी हु‌ई । उसे क्रोध भी आया । दासी ने वापस आकर रानी को सारी बात बता दी । सुनकर, रानी ने अपने भाग्य को कोसा ।

उधर, रानी की बहन ने सोचा कि मेरी बहन की दासी आ‌ई थी, परन्तु मैं उससे नहीं बोली, इससे वह बहुत दुखी हु‌ई होगी । कथा सुनकर और पूजन समाप्त कर वह अपनी बहन के घर ग‌ई और कहने लगी, हे बहन । मैं वृहस्पतिवार का व्रत कर रही थी । तुम्हारी दासी ग‌ई परन्तु जब तक कथा होती है, तब तक न उठते है और न बोलते है, इसीलिये मैं नहीं बोली । कहो, दासी क्यों ग‌ई थी ।

रानी बोली, बहन । हमारे घर अनाज नहीं था । ऐसा कहते-कहते रानी की आंखें भर आ‌ई । उसने दासियों समेत भूखा रहने की बात भी अपनी बहन को बता दी । रानी की बहन बोली, बहन देखो । वृहस्पतिदेव भगवान सबकी मनोकामना पूर्ण करते है । देखो, शायद तुम्हारे घर में अनाज रखा हो । यह सुनकर दासी घर के अन्दर ग‌ई तो वहाँ उसे एक घड़ा अनाज का भरा मिल गया । उसे बड़ी हैरानी हु‌ई क्योंकि उसे एक एक बर्तन देख लिया था । 

उसने बाहर आकर रानी को बताया । दासी रानी से कहने लगी, हे रानी । जब हमको भोजन नहीं मिलता तो हम व्रत ही तो करते है, इसलिये क्यों न इनसे व्रत और कथा की विधि पूछ ली जाये, हम भी व्रत किया करेंगे । दासी के कहने पर रानी ने अपनी बहन से वृहस्पतिवार व्रत के बारे में पूछा । उसकी बहन ने बताया, वृहस्पतिवार के व्रत में चने की दाल और मुनक्का से विष्णु भगवान का केले की जड़ में पूजन करें तथा दीपक जलायें । पीला भोजन करें तथा कथा सुनें । इससे गुरु भगवान प्रसन्न होते है, मनोकामना पूर्ण करते है । व्रत और पूजन की विधि बताकर रानी की बहन अपने घर लौट आ‌ई ।

रानी और दासी दोनों ने निश्चय किया कि वृहस्पतिदेव भगवान का पूजन जरुर करेंगें । सात रोज बाद जब वृहस्पतिवार आया तो उन्होंने व्रत रखा । घुड़साल में जाकर चना और गुड़ बीन ला‌ईं तथा उसकी दाल से केले की जड़ तथा विष्णु भगवान का पूजन किया । अब पीला भोजन कहाँ से आ‌ए । दोनों बड़ी दुखी हु‌ई । परन्तु उन्होंने व्रत किया था इसलिये वृहस्पतिदेव भगवान प्रसन्न थे । एक साधारण व्यक्ति के रुप में वे दो थालों में सुन्दर पीला भोजन लेकर आ‌ए और दासी को देकर बोले, हे दासी । यह भोजन तुम्हारे लिये और तुम्हारी रानी के लिये है, इसे तुम दोनों ग्रहण करना । दासी भोजन पाकर बहुत प्रसन्न हु‌ई । उसने रानी को सारी बात बतायी ।

उसके बाद से वे प्रत्येक वृहस्पतिवार को गुरु भगवान का व्रत और पूजन करने लगी । वृहस्पति भगवान की कृपा से उनके पास धन हो गया । परन्तु रानी फिर पहले की तरह आलस्य करने लगी । तब दासी बोली, देखो रानी । तुम पहले भी इस प्रकार आलस्य करती थी, तुम्हें धन के रखने में कष्ट होता था, इस कारण सभी धन नष्ट हो गाय । अब गुरु भगवान की कृपा से धन मिला है तो फिर तुम्हें आलस्य होता है । बड़ी मुसीबतों के बाद हमने यह धन पाया है, इसलिये हमें दान-पुण्य करना चाहिये । अब तुम भूखे मनुष्यों को भोजन करा‌ओ, प्या‌ऊ लगवा‌ओ, ब्राहमणों को दान दो, कु‌आं-तालाब-बावड़ी आदि का निर्माण करा‌ओ, मन्दिर-पाठशाला बनवाकर ज्ञान दान दो, कुंवारी कन्या‌ओं का विवाह करवा‌ओ अर्थात् धन को शुभ कार्यों में खर्च करो, जिससे तुम्हारे कुल का यश बढ़े तथा स्वर्ग प्राप्त हो और पित्तर प्रसन्न हों । दासी की बात मानकर रानी शुभ कर्म करने लगी । उसका यश फैलने लगा ।

एक दिन रानी और दासी आपस में विचार करने लगीं कि न जाने राजा किस दशा में होंगें, उनकी को‌ई खोज खबर भी नहीं है । उन्होंने श्रद्घापूर्वक गुरु (वृहस्पति) भगवान से प्रार्थना की कि राजा जहाँ कहीं भी हो, शीघ्र वापस आ जा‌एं ।

उधर, राजा परदेश में बहुत दुखी रहने लगा । वह प्रतिदिन जंगल से लकड़ी बीनकर लाता और उसे शहर में बेचकर अपने दुखी जीवन को बड़ी कठिनता से व्यतीत करता । एक दिन दुखी हो, अपनी पुरानी बातों को याद करके वह रोने लगा और उदास हो गया ।

उसी समय राजा के पास वृहस्पतिदेव साधु के वेष में आकर बोले, हे लकड़हारे । तुम इस सुनसान जंगल में किस चिंता में बैठे हो, मुझे बतला‌ओ । यह सुन राजा के नेत्रों में जल भर आया । साधु की वंदना कर राजा ने अपनी संपूर्ण कहानी सुना दी । महात्मा दयालु होते है । वे राजा से बोले, हे राजा तुम्हारी पत्नी ने वृहस्पतिदेव के प्रति अपराध किया था, जिसके कारण तुम्हारी यह दशा हु‌ई । अब तुम चिन्ता मत करो भगवान तुम्हें पहले से अधिक धन देंगें । देखो, तुम्हारी पत्नी ने वृहस्पतिवार का व्रत प्रारम्भ कर दिया है । 

अब तुम भी वृहस्पतिवार का व्रत करके चने की दाल व गुड़ जल के लोटे में डालकर केले का पूजन करो । फिर कथा कहो या सुनो । भगवान तुम्हारी सब कामना‌ओं को पूर्ण करेंगें । साधु की बात सुनकर राजा बोला, हे प्रभो । लकड़ी बेचकर तो इतना पैसा भ‌ई नहीं बचता, जिससे भोजन के उपरांत कुछ बचा सकूं । मैंने रात्रि में अपनी रानी को व्याकुल देखा है। मेरे पास को‌ई साधन नही, जिससे उसका समाचार जान सकूं। फिर मैं कौन सी कहानी कहूं, यह भी मुझको मालूम नहीं है। 

साधु ने कहा, हे राजा। मन में वृहस्पति भगवान के पूजन-व्रत का निश्चय करो। वे स्वयं तुम्हारे लिये को‌ई राह बना देंगे। वृहस्पतिवार के दिन तुम रोजाना की तरह लकड़ियां लेकर शहर में जाना । तुम्हें रोज से दुगुना धन मिलेगा जिससे तुम भलीभांति भोजन कर लोगे तथा वृहस्पतिदेव की पूजा का सामान भी आ जायेगा। जो तुमने वृहस्पतिवार की कहानी के बारे में पूछा है, वह इस प्रकार है -

वृहस्पतिदेव की कहानी

प्राचीनकाल में एक बहुत ही निर्धन ब्राहमण था । उसके को‌ई संन्तान न थी । वह नित्य पूजा-पाठ करता, उसकी स्त्री न स्नान करती और न किसी देवता का पूजन करती । इस कारण ब्राहमण देवता बहुत दुखी रहते थे ।

भगवान की कृपा से ब्राहमण के यहां एक कन्या उत्पन्न हु‌ई । कन्या बड़ी होने लगी । प्रातः स्नान करके वह भगवान विष्णु का जप करती । वृहस्पतिवार का व्रत भी करने लगी । पूजा पाठ समाप्त कर पाठशाला जाती तो अपनी मुट्ठी में जौ भरके ले जाती और पाठशाला के मार्ग में डालती जाती । लौटते समय वही जौ स्वर्ण के हो जाते तो उनको बीनकर घर ले आती । एक दिन वह बालिका सूप में उन सोने के जौ को फटककर साफ कर रही थी कि तभी उसकी मां ने देख लिया और कहा, कि हे बेटी । सोने के जौ को फटकने के लिये सोने का सूप भी तो होना चाहिये ।

दूसरे दिन गुरुवार था । कन्या ने व्रत रखा और वृहस्पतिदेव से सोने का सूप देने की प्रार्थना की । वृहस्पतिदेव ने उसकी प्रार्थना स्वीकार कर ली । रोजाना की तरह वह कन्या जौ फैलाती हु‌ई पाठशाला चली ग‌ई । पाठशाला से लौटकर जब वह जौ बीन रही थी तो वृहस्पतिदेव की कृपा से उसे सोने का सूप मिला । उसे वह घर ले आ‌ई और उससे जौ साफ करने लगी । परन्तु उसकी मां का वही ढंग रहा ।

एक दिन की बात है । कन्य सोने के सूप में जब जौ साफ कर रही थी, उस समय उस नगर का राजकुमार वहां से निकला । कन्या के रुप और कार्य को देखकर वह उस पर मोहित हो गया । राजमहल आकर वह भोजन तथा जल त्यागकर उदास होकर लेट गया ।

राजा को जब राजकुमार द्घारा अन्न-जल त्यागने का समाचार ज्ञात हु‌आ तो अपने मंत्रियों के साथ वह अपने पुत्र के पास गया और कारण पूछा । राजकुमार ने राजा को उस लड़की के घर का पता भी बता दिया । मंत्री उस लड़की के घर गया । मंत्री ने ब्राहमण के समक्ष राजा की ओर से निवेदन किया । कुछ ही दिन बाद ब्राहमण की कन्या का विवाह राजकुमार के साथ सम्पन्न हो गाया ।

कन्या के घर से जाते ही ब्राहमण के घर में पहले की भांति गरीबी का निवास हो गया । एक दिन दुखी होकर ब्राहमण अपनी पुत्री से मिलने गये । बेटी ने पिता की अवस्था को देखा और अपनी माँ का हाल पूछा ब्राहमण ने सभी हाल कह सुनाया । कन्या ने बहुत-सा धन देकर अपने पिता को विदा कर दिया । लेकिन कुछ दिन बाद फिर वही हाल हो गया । ब्राहमण फिर अपनी कन्या के यहां गया और सभी हाल कहातो पुत्री बोली, हे पिताजी । आप माताजी को यहाँ लिवा ला‌ओ । मैं उन्हें वह विधि बता दूंगी, जिससे गरीबी दूर हो जा‌ए । ब्राहमण देवता अपनी स्त्री को साथ लेकर अपनी पुत्री के पास राजमहल पहुंचे तो पुत्री अपनी मां को समझाने लगी, हे मां, तुम प्रातःकाल स्नानादि करके विष्णु भगवन का पूजन करो तो सब दरिद्रता दूर हो जा‌एगी । परन्तु उसकी मां ने उसकी एक भी बात नहीं मानी । वह प्रातःकाल उठकर अपनी पुत्री की बची झूठन को खा लेती थी ।

एक दिन उसकी पुत्री को बहुत गुस्सा आया, उसने अपनी माँ को एक कोठरी में बंद कर दिया । प्रातः उसे स्नानादि कराके पूजा-पाठ करवाया तो उसकी माँ की बुद्घि ठीक हो ग‌ई।

इसके बाद वह नियम से पूजा पाठ करने लगी और प्रत्येक वृहस्पतिवार को व्रत करने लगी । इस व्रत के प्रभाव से मृत्यु के बाद वह स्वर्ग को ग‌ई । वह ब्राहमण भी सुखपूर्वक इस लोक का सुख भोगकर स्वर्ग को प्राप्त हु‌आ । इस तरह कहानी कहकर साधु बने देवता वहाँ से लोप हो गये ।

धीरे-धीरे समय व्यतीत होने पर फिर वृहस्पतिवार का दिन आया । राजा जंगल से लकड़ी काटकर शहर में बेचने गया । उसे उस दिन और दिनों से अधिक धन मिला । राजा ने चना, गुड़ आदि लाकर वृहस्पतिवार का व्रत किया । उस दिन से उसके सभी क्लेश दूर हु‌ए । परन्तु जब अगले गुरुवार का दिन आया तो वह वृहस्पतिवार का व्रत करना भूल गया । इस कारण वृहस्पति भगवान नाराज हो ग‌ए ।

उस दिन उस नगर के राजा ने विशाल यज्ञ का आयोजन किया था तथा अपने समस्त राज्य में घोषणा करवा दी कि सभी मेरे यहां भोजन करने आवें। किसी के घर चूल्हा न जले। इस आज्ञा को जो न मानेगा उसको फांसी दे दी जा‌एगी ।

राजा की आज्ञानुसार राज्य के सभी वासी राजा के भोज में सम्मिलित हु‌ए लेकिन लकड़हारा कुछ देर से पहुंचा, इसलिये राजा उसको अपने साथ महल में ले ग‌ए । जब राजा लकड़हारे को भोजन करा रहे थे तो रानी की दृष्टि उस खूंटी पर पड़ी, जिस पर उसका हारलटका हु‌आ था । उसे हार खूंटी पर लटका दिखा‌ई नहीं दिया । रानी को निश्चय हो गया कि मेरा हार इस लकड़हारे ने चुरा लिया है । उसी समय सैनिक बुलवाकर उसको जेल में डलवा दिया ।

लकड़हारा जेल में विचार करने लगा कि न जाने कौन से पूर्वजन्म के कर्म से मुझे यह दुख प्राप्त हु‌आ है और जंगल में मिले साधु को याद करने लगा । तत्काल वृहस्पतिदेव साधु के रुप में प्रकट हो ग‌ए और कहने लगे, अरे मूर्ख । तूने वृहस्पति देवता की कथा नहीं की, उसी कारण तुझे यह दुख प्राप्त हु‌आ हैं । अब चिन्ता मत कर । वृहस्पतिवार के दिन जेलखाने के दरवाजे पर तुझे चार पैसे पड़े मिलेंगे, उनसे तू वृहस्पतिवार की पूजा करना तो तेर सभी कष्ट दूर हो जायेंगे ।

अगले वृहस्पतिवार उसे जेल के द्घार पर चार पैसे मिले । राजा ने पूजा का सामान मंगवाकर कथा कही और प्रसाद बाँटा । उसी रात्रि में वृहस्पतिदेव ने उस नगर के राजा को स्वप्न में कहा, हे राजा । तूने जिसे जेल में बंद किया है, उसे कल छोड़ देना । वह निर्दोष है । राजा प्रातःकाल उठा और खूंटी पर हार टंगा देखकर लकड़हारे को बुलाकर क्षमा मांगी तथा राजा के योग्य सुन्दर वस्त्र-आभूषण भेंट कर उसे विदा किया ।

गुरुदेव की आज्ञानुसार राजा अपने नगर को चल दिया । राजा जब नगर के निकट पहुँचा तो उसे बड़ा ही आश्चर्य हु‌आ । नगर में पहले से अधिक बाग, तालाब और कु‌एं तथा बहुत-सी धर्मशाला‌एं, मंदिर आदि बने हु‌ए थे । राजा ने पूछा कि यह किसका बाग और धर्मशाला है । तब नगर के सब लोग कहने लगे कि यह सब रानी और दासी द्घारा बनवाये ग‌ए है । राजा को आश्चर्य हु‌आ और गुस्सा भी आया कि उसकी अनुपस्थिति में रानी के पास धन कहां से आया होगा ।

जब रानी ने यह खबर सुनी कि राजा आ रहे है तो उसने अपनी दासी से कहा, हे दासी । देख, राजा हमको कितनी बुरी हालत में छोड़ गये थे । वह हमारी ऐसी हालत देखकर लौट न जा‌एं, इसलिये तू दरवाजे पर खड़ी हो जा । रानी की आज्ञानुसार दासी दरवाजे पर खड़ी हो ग‌ई और जब राजा आ‌ए तो उन्हें अपने साथ महल में लिवा ला‌ई । तब राजा ने क्रोध करके अपनी तलवार निकाली और पूछने लगा, बता‌ओ, यह धन तुम्हें कैसे प्राप्त हु‌आ है । तब रानी ने सारी कथा कह सुना‌ई ।

राजा ने निश्चय किया कि मैं रोजाना दिन में तीन बार कहानी कहा करुंगा और रोज व्रत किया करुंगा। अब हर समय राजा के दुपट्टे में चने की दाल बंधी रहती तथा दिन में तीन बार कथा कहता।

एक रोज राजा ने विचार किया कि चलो अपनी बहन के यहां हो आ‌ऊं । इस तरह का निश्चय कर राजा घोड़े पर सवार हो अपनी बहन के यहां चल दिया । मार्ग में उसने देखा कि कुछ आदमी एक मुर्दे को लिये जा रहे है । उन्हें रोककर राजा कहने लगा, अरे भा‌इयो । मेरी वृहस्पतिवार की कथा सुन लो । वे बोले, लो, हमारा तो आदमी मर गया है, इसको अपनी कथा की पड़ी है । परन्तु कुछ आदमी बोले, अच्छा कहो, हम तुम्हारी कथा भी सुनेंगें । राजा ने दाल निकाली और कथा कहनी शुरु कर दी । जब कथा आधी हु‌ई तो मुर्दा हिलने लगा और जब कथा समाप्त हु‌ई तो राम-राम करके वह मुर्दा खड़ा हो गया।

राजा आगे बढ़ा । उसे चलते-चलते शाम हो ग‌ई । आगे मार्ग में उसे एक किसान खेत में हल चलाता मिला । राजा ने उससे कथा सुनने का आग्रह किया, लेकिन वह नहीं माना ।

राजा आगे चल पड़ा । राजा के हटते ही बैल पछाड़ खाकर गिर ग‌ए तथा किसान के पेट में बहुत जो रसे द्रर्द होने लगा ।

उसी समय किसान की मां रोटी लेकर आ‌ई । उसने जब देखा तो अपने पुत्र से सब हाल पूछा । बेटे ने सभी हाल बता दिया । बुढ़िया दौड़-दौड़ी उस घुड़सवार के पास पहुँची और उससे बोली, मैं तेरी कथा सुनूंगी, तू अपनी कथा मेरे खेत पर ही चलकर कहना । राजा ने लौटकर बुढ़िया के खेत पर जाकर कथा कही, जिसके सुनते ही बैल खड़े हो गये तथा किसान के पेट का दर्द भी बन्द हो गया ।

राजा अपनी बहन के घर पहुंच गया । बहन ने भा‌ई की खूब मेहमानी की । दूसरे रोज प्रातःकाल राजा जागा तो वह देखने लगा कि सब लोग भोजन कर रहे है । राजा ने अपनी बहन से जब पूछा, ऐसा को‌ई मनुष्य है, जिसने भोजन नहीं किया हो । जो मेरी वृहस्पतिवार की कथा सुन ले । बहन बोली, हे भैया यह देश ऐसा ही है यहाँ लोग पहले भोजन करते है, बाद में को‌ई‌अन्य काम करते है । फिर वह एक कुम्हार के घर ग‌ई, जिसका लड़का बीमार था । 

उसे मालूम हु‌आ कि उसके यहां तीन दिन से किसीने भोजन नहीं किया है । रानी ने अपने भा‌ई की कथा सुनने के लिये कुम्हार से कहा । वह तैयार हो गया । राजा ने जाकर वृहस्पतिवार की कथा कही। जिसको सुनकर उसका लड़का ठीक हो गया । अब तो राजा को प्रशंसा होने लगी । एक दिन राजा ने अपनी बहन से कहा, हे बहन । मैं अब अपने घर जा‌उंगा, तुम भी तैयार हो जा‌ओ । राजा की बहन ने अपनी सास से अपने भा‌ई के साथ जाने की आज्ञा मांगी। 

सास बोली हां चली जा मगर अपने लड़कों को मत ले जाना, क्योंकि तेरे भा‌ई के को‌ई संतान नहीं होती है । बहन ने अपने भा‌ई से कहा, हे भ‌इया । मैं तो चलूंगी मगर को‌ई बालक नहीं जायेगा । अपनी बहन को भी छोड़कर दुखी मन से राजा अपने नगर को लौट आया । राजा ने अपनी रानी से सारी कथा बता‌ई और बिना भोजन किये वह शय्या पर लेट गया । रानी बोली, हे प्रभो । वृहस्पतिदेव ने हमें सब कुछ दिया है, वे हमें संतान अवश्य देंगें। 

उसी रात वृहस्पतिदेव ने राजा को स्वप्न में कहा, हे राजा । उठ, सभी सोच त्याग दे । तेरी रानी गर्भवती है । राजा को यह जानकर बड़ी खुशी हु‌ई । नवें महीन रानी के गर्भ से एक सुंदर पुत्र पैदा हु‌आ । तब राजा बोला, हे रानी । स्त्री बिना भोजन के रह सकती है, परन्तु बिना कहे नहीं रह सकती । जब मेरी बहन आये तो तुम उससे कुछ मत कहना। 

रानी ने हां कर दी । जब राजा की बहन ने यह शुभ समाचार सुना तो वह बहुत खुश हु‌ई तथा बधा‌ई लेकर अपने भा‌ई के यहां आ‌ई । रानी ने तब उसे आने का उलाहना दिया, जब भा‌ई अपने साथ ला रहे थे, तब टाल ग‌ई । उनके साथ न आ‌ई और आज अपने आप ही भागी-भागी बिना बुला‌ए आ ग‌ई । तो राजा की बहन बोली, भा‌ई । मैं इस प्रकार न कहती तो तुम्हारे घर औलाद कैसे होती ।

वृहस्पतिदेव सभी कामना‌एं पूर्ण करते है । जो सदभावनापूर्वक वृहस्पतिवार का व्रत करता है एवं कथा पढ़ता है अथवा सुनता है और दूसरों को सुनाता है, वृहस्पतिदेव उसकी सभी मनोकामना‌एं पूर्ण करते है, उनकी सदैव रक्षा करते है ।

जो संसार में सदभावना से गुरुदेव का पूजन एवं व्रत सच्चे हृदय से करते है, उनकी सभी मनकामना‌एं वैसे ही पूर्ण होती है, जैसी सच्ची भावना से रानी और राजा ने वृहस्पतिदेव की कथा का गुणगान किया, तो उनकी सभी इच्छा‌एं वृहस्पतिदेव जी ने पूर्ण की । अनजाने में भी वृहस्पतिदेव की उपेक्षा न करें । ऐसा करने से सुख-शांति नष्ट हो जाती है । इसलिये सबको कथा सुनने के बाद प्रसाद लेकर जाना चाहिये । हृदय से उनका मनन करते हुये जयकारा बोलना चाहिये ।

॥ इति श्री वृहस्पतिवार व्रत कथा ॥