Tuesday, 12 October 2010

चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है

माता जिनको याद करे वोह लोग निराले होते हैं.
Mata Jinko Yaad Kare Woh Log Nirale Hote Hain



माता जिनको नाम पुकारे किस्मत वाले होते हैं.
Mata Jinko Naam Pukare Kismat Wale Hote Hain


चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है – ४.
Chalo Bulawa aaya hai Mata ne bulaya hai – 4


जय माता दी……
Jai Mata Di……

ऊँचे पर्वत पे रानी माँ ने दरबार लगाया है,
Unche parwat pe Rani Ma ne darbar lagaya hai,


चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है.
Chalo Bulawa aaya hai Mata ne bulaya hai.


जय माता दी……
Jai Mata Di……


सारे जग में एक ठिकाना सरे गम के मरो का
Saare Jag mein ek thikana sare gum ke maro ka


रास्ता देख रही है माता अपनी आंख के तारो का
Rasta dekh rahi hai mata apni ankh ke taro ka


मस्त हवाओं का एक जोंखा ये संदेशा लाया है
Mast hawaon ka ek jonkha ye sandesha laaya hai


चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है
Chalo Bulawa aaya Hai Mata ne bulaya Hai


जय माता दी…….
Jai Mata Di…….


कहते जाओ जय माता दी……
Kahate Jao Jai Mata Di……

जय माता दी कहते जाओ आने जानो वालो को
Jai Mata Di kahte jao aane jano walo ko


चलते जाओ तुम मत देखो अपने पाओ के छालो को
Chalte jao tum mat dekho apne paon ke chalo ko


ओ …. जिसने जितना दर्द सहा है उतना चैन भी पाया है
ooo …. jisne jitna dard saha hai utna chain bhi paaya hai


चलो बुलावा आया
Chalo Bulawa aaya


है माता ने बुलाया है
Hai Mata ne bulaya Hai


जय माता दी
Jai Mata Di


वैष्णो देवी के मंदिर में – २
Vaishno Devi ke mandir Mein – 2


लोग मुरदे पाते हैं
Log Murade paate hain


रोते रोते आते हैं हंसते हंसते जाते है
Rote rote aate hain hanste hanste jaate hai


मैं भी मांग के देखूं जिसने जो माँगा वो पाया है
Mein bhi maang ke dekhun jisne jo maanga wo paya hai


चलो बुलावा आया है
Chalo Bulawa aaya Hai


माता ने बुलाया है
Mata ne bulaya Hai


जय माता दी
Jai Mata Di


मैं भी तो एक माँ हूँ माता
Mein bhi to ek ma hoon Mata


माँ ही माँ को पहचाने
Maa hi Maa ko pehchane


बेटे का दुःख क्या होता हैं और कोई ये क्या जाने
bete ka dukh kya hota hai aur koi ye kya jaane


ओ… उसका खून में देखूं कैसे जिसको दूध पिलाया है…..
ooo… uska khoon mein dekhum kaise jisko dudh pilaya hai…..


चलो बुलावा आया है
Chalo Bulawa aaya hai


माता ने बुलाया है
Mata ne bulaya hai


जय माता दी
Jai Mata Di


चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है ………
Chalo Bulawa aaya hai Mata ne bulaya hai ………


प्रेम से बोलो
Prem Se Bolo


जय माता दी
Jai Mata Di


सारे बोलो
Saare bolo

जय माता दी
Jai Mata Di


वैष्णो रानी
Vaishno rani


जय माता दी
Jai Mata Di


आंबे कल्याणी
Ambe Kalyani


जय माता दी
Jai Mata Di

माँ भोली भली
Maa Bholi Bhali


जय माता दी
Jai Mata Di


माँ शेरोवाली
Maa Sherowali


जय माता दी
Jai Mata Di


झोली भर देती
Jholi Bhar Deti


जय माता दी
Jai Mata Di

संकट हर लेती
Sankat har Leti


जय माता दी
Jai Mata Di


ओ.. जय माता दी
oo.. Jai Mata di


जय माता दी
Jai Mata Di


जय माता दी…..
Jai Mata Di ……

Friday, 8 October 2010

Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa

Jaikara Sheronwali Ka

Bol Sanche Darbar Ki Jai
Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa




O Bolo Jai Mata Ki, Jai Ho
O Bolo Jai Mata Ki, Jai Ho
Jo Bhi Dar Pe Aaye, Jai Ho
Vo Khali Na Jaye, Jai Ho
Sab Ke Kam Hain Karti, Jai Ho
Sab Ke Dukhade Harti, Jai Ho
O Maiya Sheronwali, Jai Ho
Bhar Do Jholi Khali, Jai Ho
Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa
Meri Maa Sheronwali






Pure Kare Arman Jo Sare
Deti Hai Vardan Jo Sare
Ambe Jyotanwaliye
Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa
Latanwaliye, Mehranwaliye






Sare Jag Ko Khel Khilaye
Bhichhdon Ko Jo Khub Milaye
Durge Mehranwaliye
Durga Hai Meri Maa, Ambe Hai Meri Maa
Sheronwaliye, Jyotanwaliye, Uchhe Mandiranwaliye, Sheronwaliye

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।

ॐ सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके ।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणी नमोस्तुते ॥



जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ॥ टेक ॥




मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को ।
उज्जवल से दो‌उ नैना, चन्द्रबदन नीको ॥ जय 0



कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै ।
रक्त पुष्प गलमाला, कण्ठन पर साजै ॥ जय0

केहरि वाहन राजत, खड़ग खप्परधारी ।
सुर नर मुनिजन सेवक, तिनके दुखहारी ॥ जय 0


कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती ।
कोटिक चन्द्र दिवाकर, राजत सम ज्योति ॥ जय 0


शुम्भ निशुम्भ विडारे, महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती ॥ जय 0


चण्ड मुण्ड संघारे, शोणित बीज हरे ।
मधुकैटभ दो‌उ मारे, सुर भयहीन करे ॥ जय 0


ब्रहमाणी रुद्राणी तुम कमला रानी ।
आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी ॥ जय 0


चौसठ योगिनी गावत, नृत्य करत भैरुं ।
बाजत ताल मृदंगा, अरु बाजत डमरु ॥ जय 0


तुम हो जग की माता, तुम ही हो भर्ता ।
भक्‍तन् की दुःख हरता, सुख-सम्पत्ति करता ॥ जय 0


भुजा चार अति शोभित, खड़ग खप्परधारी ।
मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी ॥ जय 0


कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति ॥ जय 0

श्री अम्बे जी की आरती, जो को‌ई नर गावै ।
कहत शिवानन्द स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै ॥ जय 0

Saturday, 2 October 2010

दे दी हमें आज़ादी बिना खड्‌ग बिना ढाल

दे दी हमें आज़ादी बिना खड्‌ग बिना ढाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
आँधी में भी जलती रही गाँधी तेरी मशाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
 
धरती पे लड़ी तूने अजब ढंग की लड़ाई
दागी न कहीं तोप न बंदूक चलाई
दुश्मन के किले पर भी न की तूने चढ़ाई
वाह रे फ़कीर खूब करामात दिखाई
चुटकी में दुश्मनों को दिया देश से निकाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम

शतरंज बिछा कर यहाँ बैठा था ज़माना
लगता था मुश्किल है फ़िरंगी को हराना
टक्कर थी बड़े ज़ोर की दुश्मन भी था ताना
पर तू भी था बापू बड़ा उस्ताद पुराना
मारा वो कस के दांव के उलटी सभी की चाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम

जब जब तेरा बिगुल बजा जवान चल पड़े
मज़दूर चल पड़े थे और किसान चल पड़े
हिंदू और मुसलमान, सिख पठान चल पड़े
कदमों में तेरी कोटि कोटि प्राण चल पड़े
फूलों की सेज छोड़ के दौड़े जवाहरलाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम

मन में थी अहिंसा की लगन तन पे लंगोटी
लाखों में घूमता था लिये सत्य की सोटी
वैसे तो देखने में थी हस्ती तेरी छोटी
लेकिन तुझे झुकती थी हिमालय की भी चौटी
दुनिया में तू बेजोड़ था इंसान बेमिसाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम

जग में कोई जिया है तो बापू तू ही जिया
तूने वतन की राह में सब कुछ लुटा दिया
माँगा न कोई तख़्त न तो ताज भी लिया
अमृत दिया तो ठीक मगर खुद ज़हर पीया
जिस दिन तेरी चिता जली, रोया था महाकाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम